scorecardresearch
 

एस्ट्रो अंकल: देवी चंद्रघंटा के स्वरूप की महिमा और महत्व क्या है?

एस्ट्रो अंकल आज हम आपको बताएंगे देवी चंद्रघंटा के स्वरूप की महिमा और महत्व क्या है? नवरात्रि के तीसरे दिन शक्ति चंद्रघंटा की पूजा अर्चना की जाती है माथे पर घंटे के आकार का अर्धचंद्र होने के कारण इनका नाम चंद्रघंटा पड़ा. मां चंद्रघंटा की पूजा करके व्यक्ति साहसी और पराक्रमी तथा  निर्भय हो जाता है.  देवी चंद्रघंटा की पूजा अर्चना करके जन्मपत्रिका के कमजोर मंगल या नीच भाव मे बैठे हुए मंगल को ठीक किया जा सकता है.  जमीन ज्यादाद तथा रक्त संबंधी समस्याओं को देवी चंद्रघंटा की पूजा कैसे ठीक किया जा सकता है. देवी चंद्रघंटा की पूजा अर्चना करके इस दिन विशेष तौर पर साधक का मन मणिपुर चक्र में प्रवेश होता है.

In this episode of Astro Uncle, our astrologer Shiromani Sachin will tell you about the significance of offering prayers to Maa Chandraghanta during Navratri. Her name Chandraghanta, means one who has a half moon shaped like a bell. Also, know the astrological prediction for your zodiac sign and good luck tips.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें