scorecardresearch
 

प्राइवेसी पॉलिसी से नाखुश यूजर्स के लिए Signal ने बताया WhatsApp छोड़ने का तरीका

WhatsApp की नई प्राइवेसी पॉलिसी कंपनी के लिए इस बार थोड़ा सा मुश्किल हो रहा है. प्राइेवेसी पसंद करने वाले यूजर्स इस पर सवाल उठा रहे हैं, जबकि वॉट्सऐप के राइवल सिग्नल को एक अच्छा मौका भी मिल गया है.

Signal Signal
स्टोरी हाइलाइट्स
  • WhatsApp की प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर एक्सपर्ट उठा रहे सवाल
  • WhatsApp राइवल Signal ने बताया ऐसे छोड़े वॉट्सऐप

भारत में WhatsApp को यूजर्स बुधवार को एक पॉप-अप मिला. इस पॉप अप में यूजर को WhatsApp के नए Terms of services को ऐक्सेप्ट करने को कहा गया. हालांकि अभी इसे आप ऐक्सेप्ट न भी करें तो चलेगा, लेकिन 8 फरवरी तक इसे ऐक्सप्ट करना ही होगा.


इसके लिए फेसबुक की कंपनी वॉट्सऐप ने 8 फरवरी तक की डेडलाइन दी है. नए Terms of services के मुताबिक WhatsApp यूजर्स के डेटा पर पहले से ज्यादा निगरानी रखेगा और इसे फेसबुक अपनी दूसरी सर्विस के साथ भी शेयर करेगी. 


WhatsApp के इस फैसले के बाद वॉट्सऐप यूजर्स के एक तबके में गुस्सा है. प्राइवेसी पसंद यूजर्स अब Signal और  Telegram ऐप्स की ओर रुख कर रहे है. इन ऐप्स में प्राइवेसी पर ज्यादा ध्यान दिया गया है. अच्छी बात ये है कि यहां यूजर्स का डेटा भी ज्यादा कलेक्ट नहीं किया जाता है. 


दुनिया के सबसे अमीर शख्स और टेस्ला के सीईओ एलोन मस्क ने यूजरों को Signal ऐप का उपयोग करने को कहा है. 


Signal ने गुरुवार को ट्वीट करके बताया कि वेरिफिकेशन कोड आने में देरी हो रही है. ज्यादा नए यूजर्स के आने की वजह से ऐसा हो रहा है. कंपनी एक गाइड भी शेयर किया है. जिसमें बताया गया है कि कैसे यूजर अपने ग्रुप को अन्य मैसेंजर ऐप से Signal ऐप में ग्रुप लिंक से ला सकते है. यूजर को यहां ध्यान देना होगा कि वो अपने चैट को एक ऐप से दूसरे ऐप में मूव नहीं कर सकते है. Signal ने जो फीचर शेयर किया है उससे बस यूजर एक मैसेंजर से दूसरे में जा सकता है.


कई लोग जानना चाह रहे है कि कैसे वे ग्रुप चैट को दूसरे ऐप से Signal में ला सकते है. Signal का ग्रुप लिंक एक अच्छी शुरूआत है. सिग्नल ने ट्वीट किया है कि अपनी पसंद के पुराने चैट ऐप में एक ग्रुप लिंक को ड्रॉप करें जैसे आप माइक को बाहर जाने पर छोड़ रहे हैं.


यहां पर हम आपको बताने जा रहे कैसे ग्रुप चैट को WhatsApp या अन्य किसी मैसेंजर ऐप से Signal ऐप में ले जा सकते है. 


-    सबसे पहले Signal पर एक ग्रुप बनाएं.
-    ग्रुप सैटिंग पर टैप करके ग्रुप लिंक पर क्लिक करें.
-    ग्रुप लिंक के लिए toggle ऑन करके शेयर पर टैप करें.
-    इसे अपने पुराने मैसेंजर में शेयर करें.


Signal ऐप जिसने प्राइवेसी पर काफी फोकस किया है. इसने ग्रुप माइग्रेशन लिंक के सुरक्षा पर कमेंट करते हुए कहा है कि “लिंक्स ऑप्शनल है जिसे कभी भी रोटेट या डिसेबल किया जा सकता है. नए मेंबर को जॉइन होने से पहले ग्रुप एडमिन की अप्रूवल चाहिए.”
ग्रुप तैयार हो जाने के बाद कुछ नए ऑप्शन्स एनेबल होंगे. आप इन स्टेप्स को फॉलो कर सकते हैं. 


-    शेयर आइकॉन पर टैप करके लिंक को दूसरे यूजर को फॉरवार्ड कर सकते हैं.
-    शेयर लिंक का उपयोग करके ग्रुप में नए मेंबर को अप्रूव करने का टॉगल चालू या बंद कर सकता है.
-    अगर यूजर को लगता है कि लिंक ज्यादा शेयर हो गया है तो वो लिंक को रिसेट कर सकता है.


दिसंबर 2020 में Signal ऐप ने ग्रुप कॉल फीचर को लॉन्च किया था. Signal ने लेटेस्ट वर्जन के अपडेट के साथ ही इसे बाकी फीचर की तरह फ्री, प्राइवेट और end-to-end encrypted बताया. 
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें