scorecardresearch
 

क्या Dream11 के दबाव में Google ने लिया Paytm ऐप पर ऐक्शन? Paytm ने हटाया 'कैशबैक'

Paytm को गूगल प्ले स्टोर से हटा लिया गया है. वजह गूगल प्ले स्टोर की पॉलिसी वायलेशन बताया जा रहा है. सेल्फ़ रेग्यूलेटरी बॉडी FIFS के मुताबिक गूगल ने उनके कहने पर हटाया ऐप.

Paytm Cricket Paytm Cricket
स्टोरी हाइलाइट्स
  • गूगल प्ले स्टोर से पेटीएम हटाया गया, FIFS ने कहा, हमारे कहने पर कंपनी ने हटाया
  • FIFS फैंटेसी स्पोर्ट्स के लिए भारत में सेल्फ़ रेग्यूलेटरी बॉडी है
  • गैंबलिंग से जुड़े ऐप्स को गूगल प्ले भारत में नहीं देता इजाज़त

Dream11 IPL 2020 की शुरुआत कल से हो रही है. क्रिकेट से जुड़े फैंटेसी ऐप्स में हलचल तेज़ हो चुकी है. इसी बीच गूगल ने अपने प्ले स्टोर से Paytm को हटा दिया है. इसकी कथित वजह गैंबलिंग है.

Dream 11 भारत में सबसे पॉपुलर फैंटेसी स्पोर्ट्स गेमिंग ऐप और इस बार IPL का स्पॉन्सर भी Dream 11 है. भारत में Paytm पॉपुलर  है पिछले कुछ दिनों से Paytm भी फैंटेसी लीग को लेकर लगातार प्रचार कर रहा है.

क्या Dream 11 के कहने पर या दबाव में गूगल प्ले स्टोर से Paytm को हटा लिया गया?

ग़ौरतलब है कि भारत फेडेरेशन ऑफ इंडियन फैंटेसी स्पोर्ट्स (FIFS) एक सेल्फ़ रेग्यूलेटरी बॉडी है. ऐसा बताया जाता है कि FIFS पर Dream 11 का इंफ्लूएंस ज्यादा है.

इस सेल्फ़ रेग्यूलेटरी बॉडी (FIFS) की तरफ से एक स्टेटमेंट जारी किया गया है. FIFS ने कहा है कि गूगल बड़ी कंपनियों के फैंटेसी लीग के ऐप को प्ले स्टोर पर इजाज़त देकर अफ़ेयर ट्रेड कर रहा है.

FIFS की रिक्वेस्ट पर हटा Paytm?

FIFS ने कहा है कि रेग्यूलरेटरी बॉडी ने गूगल से इस अफ़ेयर ट्रेड को लेकर आपत्ति जताई है. FISS के मुताबिक़ गूगल ने ऑफिशियल रिप्रेजेंटेशन को रेस्पॉन्ड करते हुए ऐक्शन लिया और इस वजह से ही पेटीएम ऐप को प्ले स्टोर से अब हटा लिया गया है.

FIFS ने कहा है.. 

‘हमने ये पाया है कि गूगल अपनी पॉलिसी, नियम और रेग्लूलेशन को चुनिंदा बड़ी कंपनियों जैसे - Paytm First Games को अपने प्ले स्टोर पर कैश जीतने और इस तरह के कंटेट को प्रोमोट करने की इजाजात देता है. इन ऐप्स पर गूगल कोई कदम नहीं उठाता और उन्हें उनके अनफेयर ट्रेड प्रैक्टिस में सपोर्ट करता है’.

इसके बाद अब गूगल ने जो ऐक्शन लिया वो क्यों लिया ये साफ़ नहीं है. लेकिन माना जा रहा है कि FIFS के कहने के बाद कंपनी ने ऐक्शन लिया है.

चूंकि गूगल ने अभी तक इस मामले पर प्रॉपर स्टेटमेंट जारी नहीं किया है, इसलिए कुछ भी कहना जल्दबाज़ी होगी.

FIFS ने गूगल का शुक्रिया अदा किया.. 

FIFS ने एक ट्वीट में गूगल का शुक्रिया भी अदा किया है. FIFS का कहना है, ‘हम गूगल का शुक्रिया अदा करते हैं. कंपनी फैंटेसी स्पोर्ट्स को लेकर छोटी बड़ी सभी कंपनियों के लिए एक पॉलिसी फ़ॉलो कर रही है. गूगल के इस स्ट्रिक्ट कदम से हम खुश हैं’

FIFS ने हालाँकि, ये भी कहा है कि फैंटेसी स्पोर्ट्स ऐप्स भारत में लीगल हैं और इन्हें गूगल प्ले स्टोर पर जगह मिलनी चाहिए.

आपको बता दें कि Dream 11 ऐप गूगल प्ले स्टोर पर गैंबलिंग पॉलिसी की वजह से ही नहीं है. इसे डायरेक्ट वेबसाइट से एपीके फाइल के तौर पर डाउनलोड और इंस्टॉल किया जाता है.

कुल मिला कर ये सेल्फ़ रेग्यूलेटरी बॉडी ये चाहती है कि या तो इस तरह के फैंटेसी ऐप को गूगल प्ले स्टोर पर इजाजात दिया जाए जिसमें Dream 11 भी है. या किसी भी ऐप - जैसे Paytm फ़र्स्ट को प्ले स्टोर पर जगह न मिले.

Paytm का क्या है कहना?

Paytm ने कहा है कि कंपनी ने हाल ही में Paytm cricket league लॉन्च किया था जो पेएटीएम ऐप का हिस्सा था. ये यूजर्स को क्रिकेट और कैशबैक में इंगेज करने के लिए लाया गया था.

Paytm के मुताबिक़ ये गेम यूज़र्स को हर ट्रांजैक्शन पर प्लेयर स्टिकर्स देता है और इन्हें Paytm कैशबैक के तौर पर पाया जा सकता है.

आज दोपहर में Google की तरफ़ से कहा गया है कि वो हमारा ऐप सस्पेंड कर रहे हैं, क्योंकि उन्हें ऐसा लगता है कि ये गैंबलिंग को लेकर Google प्ले स्टोर की पॉलिसी का वायलेशन है. इसके बाद Paytm को Google प्ले स्टोर से अनलिस्ट कर दिया गया.

Paytm  ने हटाया कैशबैक कॉम्पोनेंट

हालांकि Paytm की तरफ़ से कहा गया है कि Paytm पर होने वाली हर ऐक्टिविटी लॉफुल और कंपनी ने अस्थाई तौर पर Google प्ले रिक्वायरमेंट मीट करने के लिए कैशबैक कॉम्पोनेंट हटा लिया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें