scorecardresearch
 

फोन से कैसे लीक होते हैं प्राइवेट फोटो और वीडियो? भूल कर भी न करें ये गलतियां

Private Photo Leak: अक्सर फोन से पर्सनल फोटो-वीडियो के लीक होने की खबर आती रहती है. ऐसे में जरूरी है कि आप सावधान रहें. एक गलती से आपकी पर्सनल इमेज इंटरनेट पर लीक हो सकती है. यहां पर फोटो से फोटोज-वीडियो लीक होने की वजहों के बारे में बता रहे हैं.

X
फोन से फोटो-वीडियो लीक होने की कई वजहें हो सकती हैं
फोन से फोटो-वीडियो लीक होने की कई वजहें हो सकती हैं

Private Photo Leak: फोन से प्राइवेट फोटो लीक होना कोई नहीं बात नहीं है. पहले भी कई बार फोन्स से प्राइवेट फोटो लीक होने की रिपोर्ट्स आ चुकी हैं. फोन में सिक्योरिटी होने के बाद भी मोबाइल से वीडियो-फोटो लीक हो जाते हैं. इसके कई कारण हो सकते हैं. 

हम यहां पर उन कारणों पर चर्चा करेंगे और जानने की कोशिश करेंगे फोन से फोटो-वीडियो लीक होने से बचने के लिए आप क्या कर सकते हैं. सबसे पहला कारण काफी कॉमन है और इसके लिए किसी टेक्निकल नॉलेज की जरूरत नहीं है. 

अगर आपने किसी को अपनी प्राइवेट फोटो सेंड किया है और वो इसे किसी और ट्रांसफर कर देता है तो फोटोज लीक हो सकते हैं. इसके अलावा किसी को अगर आपके फोन का एक्सेस मिल गया है तो वो भी इपने फोन में फोटो-वीडियो को ट्रांसफर कर फाइल लीक कर सकता है. 

ऐसे में बेहतर यही होगा अपने मोबाइल को लॉक करके रखें. इसके अलावा किसी को भी अपनी प्राइवेट इमेज सेंड ना करें. लेकिन, दूसरे कारणों से भी फोटो या वीडियो लीक हो सकते हैं. हालांकि, इसके लिए टेक्निकल नॉलेज की जरूरत होती है. 

थर्ड पार्टी ऐप्स से रहें सावधान

फोटो-वीडियो लीक में थर्ड पार्टी मैलेशियस ऐप्स का भी इसमें अहम योगदान होता है. कई ऐसे मैलेशियस या वायरस वाले ऐप्स होते हैं जो आपसे कई तरह की परमिशन ले लेते हैं. इससे इन ऐप्स को आपके फाइल का भी एक्सेस मिल जाता है. इन फाइल्स को रिमोट सर्वर पर अपलोड कर दिया जाता है. जहां से स्कैमर्स इन फाइल्स को थर्ड पार्टी को बेच देते हैं और आपकी इमेज लीक हो जाती है. 

ऐसे में जरूरी है कि आप हमेशा ऑफिशियल ऐप स्टोर से ही किसी ऐप को इंस्टॉल करें. ऐप इंस्टॉल करने से पहले उसके रिव्यू को जरूर चेक कर लें. किसी थर्ड पार्टी ऐप स्टोर या वेबसाइट से किए गए ऐप में वायरस हो सकता है. 

इसके अलावा सोशल इंजीनियरिंग का भी यूज करके टारगेट के फोटो या वीडियो तक पहुंचा जा सकता है. इसमें लोगों को सोशल टेक्नीक का यूज करके फंसाया जाता है. इससे हैकर्स को यूजर का अकाउंट और पासवर्ड मिल जाता है. 

क्लाउड ड्राइव से भी हो सकता है डेटा लीक

इसका यूज वो क्लाउड जैसे गूगल ड्राइव, ड्रॉपबॉक्स पर स्टोर फोटो या डॉक्यूमेंट को एक्सेस करने के लिए करते हैं. इससे बचने के लिए कभी भी फिशिंग वेबसाइट पर अपनी डिटेल्स ना भरें सोशल मीडिया या वॉट्सऐप पर मिले अनजान लिंक से सावधान रहें. 

हैकर्स स्पाईवेयर के जरिए भी लोगों को टारगेट करते हैं. स्पाईवेयर यानी जासूसी सॉफ्टवेयर आपके फोन का पूरा डेटा एक्सेस करता है. इसमें फोटो और वीडियो भी शामिल होते हैं. इसके जरिए हैकर्स टारगेट को ब्लैकमेल करते हैं या इसे लीक कर देते हैं. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें