scorecardresearch
 

WhatsApp कर रहा है इस खास फीचर की टेस्टिंग, फेक न्यूज पर लगेगी लगाम

अपने प्लेटफॉर्म पर स्पैम मैसेजेस को फैलने से रोकने के लिए कंपनी एक नए 'सस्पिशियस लिंक डिटेक्शन' फीचर पर काम कर रही है. मिली जानकारी के मुताबिक फिलहाल इस फीचर की टेस्टिंग की जा रही है. इसकी मदद से यूजर्स व्हाट्सऐप मैसेज के भीतर मौजूद संदिग्ध लिंक का पता लगा पाएंगे.

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो

अपने प्लेटफॉर्म पर स्पैम मैसेजेस को फैलने से रोकने के लिए WhatsApp एक नए 'सस्पिशियस लिंक डिटेक्शन' फीचर पर काम कर रहा है. मिली जानकारी के मुताबिक फिलहाल इस फीचर की टेस्टिंग की जा रही है. इसकी मदद से यूजर्स वॉट्सऐप मैसेज के भीतर मौजूद संदिग्ध लिंक का पता लगा पाएंगे.

ये एंड्रॉयड वर्जन 2.18.204 के लिए वॉट्सऐप बीटा का हिस्सा है. हालांकि शुरुआती स्तर में होने की वजह से इसे सभी यूजर्स के लिए उपलब्ध नहीं कराया गया है. फेसबुक के स्वामित्व वाली कंपनी की तरफ ये कोशिश स्पैम और फेक न्यूज को अपने प्लेटफॉर्म पर फैलने से रोकने के लिए की जा रही है.

इससे पहले वॉट्सऐप बीटा वर्जन में 'फॉर्वर्डेड' लेबल को भी देखा गया था. ताकी यूजर्स प्लेटफॉर्म पर फॉर्वर्डेड मैसेज की पहचान कर सकें और फेक न्यूज को फैलने से रोकने में मदद मिले. WABetaInfo की रिपोर्ट के मुताबिक, इस नए फीचर की मदद से वॉट्सऐप संदिग्ध लिंक का पता लगाने के लिए मैसेज में मौजूद लिंक का विश्लेषण करता है.

इस फीचर के आने से वॉट्सऐप ऑटोमैटिक तरीके से पहचान लेगा कि रिसीव किए हुए मैसेज में कोई लिंक फेक वेबसाइट तक तो नहीं पहुंचा रहा है. ये ऐसी वेबसाइट्स हो सकती हैं जो यूजर्स के लिए खतरनाक साबित हों. संदिग्ध लिंक की पहचान होते ही मैसेज को रेड कलर लेबल से मार्क कर दिया जाएगा, जिससे यूजर्स आसानी से इसके बिहेवियर को समझ पाएंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें