scorecardresearch
 

Tokyo Olympics: महिला हॉकी में भी टूटा गोल्ड का सपना, अब ब्रॉन्ज के लिए भिड़ेंगी बेटियां

भारतीय महिला हॉकी टीम का पहली बार ओलंपिक के फाइनल में पहुंचने का सपना चकनाचूर हो गया है. बुधवार को खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में भारत को अर्जेंटीना ने 2-1 से मात दी.

Argentina's Maria Noel Barrionuevo (C) celebrates with teammates after scoring the team's second goal. (Getty) Argentina's Maria Noel Barrionuevo (C) celebrates with teammates after scoring the team's second goal. (Getty)
1:01
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सेमीफाइनल मुकाबले में भारत को अर्जेंटीना ने 2-1 से मात दी
  • भारत के लिए गुरजीत कौर ने दूसरे मिनट में एकमात्र गोल किया

भारतीय महिला हॉकी टीम का पहली बार ओलंपिक के फाइनल में पहुंचने का सपना चकनाचूर हो गया है. बुधवार को खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में भारत को अर्जेंटीना ने 2-1 से मात दी. भारत के लिए गुरजीत कौर ने दूसरे मिनट में एकमात्र गोल किया. वहीं, अर्जेंटीना के लिए कप्तान मारिया बैरियोन्यूवो (18वें और 36वें मिनट) ने दोनों गोल दागे. अब कांस्य पदक के लिए शुक्रवार को भारत का मुकाबला ग्रेट ब्रिटेन से होगा. भारतीय पुरुष हॉकी टीम भी अपना सेमीफाइनल मुकाबला गंवा चुकी है और वह गुरुवार को जर्मनी के खिलाफ कांस्य के लिए उतरेगी.

पहला क्वार्टर पूरी तरह भारतीय टीम के नाम रहा. मैच के दूसरे ही मिनट में भारत को पेनल्टी कॉर्नर मिल गया, जिसे ड्रैग फ्लिकर गुरजीत कौर ने गोल में तब्दील कर भारत को 1-0 से बढ़त दिला दी. इसके बाद आठवें मिनट में अर्जेंटीनी टीम को‌ भी पेनल्टी कॉर्नर मिला, लेकिन भारतीय रक्षापंक्ति ने इस मौके को नाकाम कर दिया. 

दूसरे क्वार्टर में अर्जेंटीना की टीम ने शानदार वापसी की. खेल के 18वें मिनट में अर्जेंटीना को पेनल्टी कॉर्नर मिला, जिसे कप्तान मारिया नोएल बैरियोन्यूवो ने गोल पोस्ट में डालकर टीम को 1-1 की बराबरी दिला दी. इसके बाद दूसरे क्वार्टर में भारतीय टीम को दो पेनल्टी कॉर्नर जरूर मिले, लेकिन वह गोल नहीं कर सकी. 

तीसरे क्वार्टर में अर्जेंटीना को 2-1 की बढ़त मिल गई, जब पेनल्टी कॉर्नर को कप्तान मारिया बैरियोंन्यूवो ने एकबार फिर गोल में तब्दील कर दिया. तीसरे क्वार्टर में तो भारतीय टीम को एक भी पेनल्टी कॉर्नर नहीं मिल सका. 

चौथे क्वार्टर के सातवें मिनट में नेहा ने भारत को पेनल्टी कॉर्नर दिलाया, लेकिन गुरजीत कौर इस मौके पर गोल नहीं कर पाईं. खेल के आखिरी मिनट में नवनीत कौर के पास भी गोल कर मुकाबले को पेनल्टी शूटआउट में ले जाने का मौका था. लेकिन अर्जेंटीनी गोलकीपर ने शानदार बचाव करते हुए नवनीत को गोल नहीं करने दिया. 

भारतीय महिला टीम को ग्रप-ए में नीदरलैंड, जर्मनी, ब्रिटेन, आयरलैंड और साउथ अफ्रीका के साथ रखा गया था. वहीं, ग्रुप-बी में ऑस्ट्रेलिया, अर्जेंटीना, न्यूजीलैंड, जापान, चीन और स्पेन की टीमें शामिल थीं. सभी टीमें एक-दूसरे से खेलीं और दोनों ग्रुप से शीर्ष चार टीमें क्वार्टर फाइनल में पहुंचीं. भारत अपने ग्रुप में दो जीत और तीन हार के साथ चौथे स्थान पर रहा था. 

टोक्यो में महिला टीम का अभियान नीदरलैंड, जर्मनी और गत चैम्पियन ब्रिटेन से लगातार तीन मैचों में हार से शुरू हुआ, लेकिन उसने शानदार वापसी करते हुए अपने से ऊंची रैंकिंग की आयरलैंड को 1-0 से हराने के बाद दक्षिण अफ्रीका को 4-3 से शिकस्त देकर खुद को दौड़ में बनाए रखा. भारत का अंतिम आठ में स्थान ब्रिटेन के पूल-ए के अंतिम मैच में आयरलैंड को 2-0 से हराने के बाद सुनिश्चित हुआ. फिर क्वार्टर फाइनल में भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 1-0 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×