scorecardresearch
 

एक साल में कामयाबी और असफलता दोनों देख लीः शिखर धवन

इंटरनेशनल क्रिकेट में शिखर धवन ने आगाज शानदार किया, लेकिन जल्द ही उन्हें इस खेल की कड़वी सच्चाइयों से रूबरू होना पड़ा. इस सलामी बल्लेबाज ने बताया कि पिछले साल उन्होंने अपने करियर में उतार-चढ़ाव दोनों देखे हैं और उन्हें सफलता के साथ साथ असफलता की कीमत का भी पता चला है.

शिखर धवन शिखर धवन

इंटरनेशनल क्रिकेट में शिखर धवन ने आगाज शानदार किया, लेकिन जल्द ही उन्हें इस खेल की कड़वी सच्चाइयों से रूबरू होना पड़ा. इस सलामी बल्लेबाज ने बताया कि पिछले साल उन्होंने अपने करियर में उतार-चढ़ाव दोनों देखे हैं और उन्हें सफलता के साथ साथ असफलता की कीमत का भी पता चला है. धवन ने कहा कि इंग्लैंड में असफलता से उन्हें बेहतर बल्लेबाज बनने में मदद मिल सकती है.

धवन ने कहा, 'पिछले एक साल में मैंने काफी कुछ सीखा क्योंकि मैंने सफलता और असफलता दोनों देखी. अगर आप नहीं जानते कि असफलता क्या होती है तो फिर आप सफलता का लुत्फ नहीं उठा सकते. मैं हर दिन सीख रहा हूं.' धवन ने वेस्टइंडीज के खिलाफ होने वाले दूसरे वनडे इंटरनेशनल मैच की पहले कहा, 'उन छह पारियों (इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैचों में) जिनमें मैं नाकाम रहा, से शायद मुझे 50 अच्छी पारियां खेलने में मदद मिलेगी.'

बुरे समय में धोनी ने दिया पूरा साथ...
उन्होंने खुलासा किया कि जब वह बुरे दौर से गुजर रहे थे तब कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने उनका पूरा साथ दिया जिससे उनका हौसला बढ़ा. धवन ने कहा, 'एक खिलाड़ी के लिए यह महत्वपूर्ण है कि जब वह बुरे दौर से गुजर रहा हो तो उसे कप्तान का समर्थन हासिल हो और मुझे कप्तान का समर्थन मिला. वह लंबे समय से भारतीय टीम का कप्तान है और जानता है कि खिलाड़ी की जरूरत क्या है. यहां तक कि सहयोगी स्टाफ ने भी मुझे अपना नैसर्गिक खेल खेलने के लिए प्रेरित किया.'

समय के साथ परिपक्व होते हैं क्रिकेटर...
धवन से पूछा गया कि क्या उन्होंने अपने खेल में कुछ बदलाव किया है, उन्होंने कहा, 'आपको अपने करियर के दौरान कुछ नई चीजें सीखने को मिलती हैं लेकिन मेरा मूल खेल पहले जैसा ही है. आप खेल के मानसिक पहलू के बारे में सीखते हो कि कैसे गेंदबाज की लय बिगाड़ी जा सकती है. आप अनुभव के साथ परिपक्व होते जाते हो.'

अजिंक्य और रोहित दोनों के साथ पारी शुरू करना पसंद...
धवन की रोहित शर्मा के साथ सफल सलामी जोड़ी रही है, लेकिन रोहित के चोटिल होने के बाद वह अंजिक्य रहाणे के साथ पारी का आगाज कर रहे हैं और दिल्ली के इस बल्लेबाज का मानना है कि रहाणे के आक्रामक रवैये से उन्हें मदद मिलती है. उन्होंने कहा, 'मुझे रोहित और अंजिक्य दोनों के साथ पारी का आगाज करना पसंद है. अजिंक्य आक्रामक है और वास्तव में गेंद को अच्छी तरह से हिट करता है. इससे मुझे अपने शॉट खेलने के लिए समय मिल जाता है. अभी मैंने अंजिक्य के साथ कुछ मैचों में पारी की शुरुआत की है लेकिन मैं इसका लुत्फ उठा रहा हूं. जब दोनों छोर से रन बन रहे हों तो अच्छा रहता है.'

ऑफ स्पिनरों को अच्छा खेल रहा हूं...
धवन कई बार ऑफ स्पिनरों की गेंद पर आउट हुए हैं, लेकिन बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने कहा कि यह चिंता का विषय नहीं है. उन्होंने कहा, 'मैं यह नहीं कह रहा हूं कि ऑफ स्पिनर कभी मुझे आउट नहीं कर पाएंगे लेकिन अभी मैं उनके खिलाफ अच्छी बल्लेबाजी कर रहा हूं.' धवन से पूछा गया कि पहला वनडे गंवाने के बाद क्या भारतीय टीम का मनोबल गिरा है, उन्होंने कहा, 'टीम का मनोबल बहुत अच्छा है और हम अगले मैच को लेकर सकारात्मक हैं. हम कड़ी मेहनत कर रहे हैं. बेशक आप कुछ मैच में जीत दर्ज करते हो और कुछ गंवाते हो लेकिन हमें कड़ी मेहनत जारी रखनी पड़ती है.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें