scorecardresearch
 

तिरंगे के बिना जिंदगी, इस बार नहीं बजेगा जन गण मन:सुशील कुमार

वर्ल्ड चैंपियनशिप में हिस्सा लेने बुडापेस्ट की फ्लाइट लेने के बाद मैं आंखें बंद करके जिंदगी के बेहतरीन पलों के बारे में सोचने लगा. दो ओलंपिक मेडल और ऊंचाई पर लहराता तिरंगा. मैं जब भी विदेशी जमीन पर गोल्ड जीतता हूं, स्टेडियम में राष्ट्रगान गूंजता है. ये यादें मुझे रोमांचित कर देती हैं.

सुशील कुमार सुशील कुमार

वर्ल्ड चैंपियनशिप में हिस्सा लेने बुडापेस्ट की फ्लाइट लेने के बाद मैं आंखें बंद करके जिंदगी के बेहतरीन पलों के बारे में सोचने लगा. दो ओलंपिक मेडल और ऊंचाई पर लहराता तिरंगा. मैं जब भी विदेशी जमीन पर गोल्ड जीतता हूं, स्टेडियम में राष्ट्रगान गूंजता है. ये यादें मुझे रोमांचित कर देती हैं.

लेकिन दुख है कि इस बार जब वर्ल्ड चैंपियनशिप में मैं पोडियम पर खड़ा होउंगा तो तिरंगा नहीं लहराएगा. मेरे गोल्ड जीतने पर 'जन गण मन' नहीं बजेगा. क्योंकि इस बार मैं भारत का प्रतिनिधित्व नहीं कर रहा हूं. मैं वहां सिर्फ सुशील कुमार बनकर जा रहा हूं. मेरी जर्सी पर इंडिया नहीं लिखा है.

एक ओलंपिक खिलाड़ी के लिए इससे बड़ी निराशा की बात नहीं हो सकती कि वह एक चैंपियनशिप में मेडल जीते, लेकिन वह मेडल सिर्फ उसे मिले, उसके देश को नहीं. मैं सेना के अपने दोस्तों को याद करता हूं जो जो तिरंगे के लिए युद्ध लड़ते हैं और इधर हम हैं, जो उन अधिकारियों के मारे हैं जिनका काम भारत में खेल को बढ़ावा देना है. उनमें से कुछ सिर्फ व्यक्तिगत स्वार्थ की वजह से अपनी कुर्सियों से चिपके हुए हैं.

मेरा मानना है कि इंटरनेशनल प्रतियोगिताओं में सिर्फ हिस्सा लेने नहीं, जीतने जाना चाहिए. मुझे उम्मीद है कि मेरे साथी खिलाड़ी भी ऐसा ही सोचते होंगे. यह भारत में खेल के विकास का महत्वपूर्ण समय है. लेकिन पिछले कुछ महीने बेहद निराशाजनक रहे हैं. इसकी दो वजह हैं. एक, इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (आईओए) का रवैया, दूसरा, इंटरनेशनल ओलंपिक कमेटी (आईओसी) द्वारा हमारी नेशनल स्पोर्ट्स बॉडी का सस्पेंशन.

क्या हमारे प्रशासक देश के बारे में क्यों नहीं सोच सकते? हमें बतौर भारतीय कब तक अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में हिस्सा लेने से रोका जाता रहेगा?

पिछले दो ओलंपिक खेलों में नौ मेडल जीतने के बावजूद भारत में खेल पर गंभीर संकट है. आईओए हालात के हिसाब से उपयुक्त कदम उठाना चाहिए और एक ऐसा माहौल बनाना चाहिए जिसमें युवा खिलाड़ी विश्व चैंपियन बनने का सपना देख सकें. अभी नहीं तो कभी नहीं. खेल में आप कभी जीतते हैं, कभी हारते हैं. पर यह लड़ाई खेल के करप्शन के खिलाफ है. जीतने के अलावा हमारे पास दूसरा विकल्प नहीं है.

(लेखक जाने माने अंतरराष्ट्रीय पहलवान हैं. वह इकलौते भारतीय खिलाड़ी हैं जिन्होंने ओलंपिक की व्यक्तिगत स्पर्धा में दो बार ओलंपिक पदक जीता)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें