scorecardresearch
 

ये वक्त है खेल भावना से खेलने का

बतौर एथलीट हमें शुरू से ही खेल में नैतिकता का पाठ पढ़ाया जाता है. खेल भावना, एकता, निष्पक्षता और ईमानदारी से खेलने के लिए हम कई कसमें खाते हैं. खेल और ओलंपिक के प्रति प्यार और सम्मान की खातिर हम इन तमाम मूल्यों को खुद में समा लेते हैं. लेकिन क्या यह सवाल उठना जायज नहीं है कि खेल प्रशासन में बैठे लोगों के नैतिक मूल्य भी उच्च होने चाहिए.

अभिनव बिंद्रा अभिनव बिंद्रा

बतौर एथलीट हमें शुरू से ही खेल में नैतिकता का पाठ पढ़ाया जाता है. खेल भावना, एकता, निष्पक्षता और ईमानदारी से खेलने के लिए हम कई कसमें खाते हैं. खेल और ओलंपिक के प्रति प्यार और सम्मान की खातिर हम इन तमाम मूल्यों को खुद में समा लेते हैं. लेकिन क्या यह सवाल उठना जायज नहीं है कि खेल प्रशासन में बैठे लोगों के नैतिक मूल्य भी उच्च होने चाहिए.

 

आज देश भर के एथलीट यही चाहते हैं कि उनके खेल की प्रशासनिक कमान ईमानदार अधिकारियों के हाथों में हो. लेकिन सच्चाई तो यह है कि वर्तमान भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) की लिस्ट में हमारा नंबर सबसे आखिर में आता है. ये संघ केवल अपने स्वार्थ के लिए काम करता है. 

एक सफल ओलंपिक अभियान, जिसमें हमने छह मेडल जीते थे, के बाद इंटरनेशनल ओलंपिक कमिटी ने राष्ट्रीय ओलंपिक संस्था को निलंबित कर दिया. 2008 बीजिंग और 2012 लंदन ओलंपिक में बेहतरीन प्रदर्शन के बाद हमारी निगाहें 2016 और 2020 के ओलंपिक पर होनी चाहिए थी. युवाओं को प्रेरित करने के लिए देश में एक मजबूत ओलंपिक अभियान चलाए जाने की जरूरत थी. लेकिन हमारे प्रशासक इस बहस में उलझ गए कि दागियों को चुनाव लड़ने से रोका जाए या नहीं?

एक एथलीट के तौर पर हम यह जरूर चाहेंगे कि अगर प्रशासक ओलंपिक आंदोलन की अगुवाई करें तो उनका एक घोषणापत्र अवश्य हो. घोषणापत्र शब्द को हमारे राजनेता बेहतर ढंग से समझ सकते हैं. ऐसी स्थिति में देश में खेल को आगे ले जाने के लिए उनकी योजनाएं क्या होंगी? एथलीट्स के लिए वह क्या करेंगे? नए टेंलेंट को आगे लाने और पुराने दिग्गजों के लिए उनके क्या-क्या प्लान होंगे? 
आज ओलंपिक टीम के पास कोई परमानेंट स्पॉन्सर तक नहीं है. कॉरपोरेट हाउसों का कहना है कि वह पारदर्शिता का अभाव और दागदार छवि वाले लोगों की वजह से ओलंपिक के लिए एक रुपया तक देने को राजी नहीं है.

आप चाहे किसी भी भारतीय एथलीट से पूछ लें, वो आपको उनके साथ टूर पर जाने वाले अयोग्य कोचों की गाथाएं सुनाएंगे. उनसे आपको ये पता चलेगा कि खेल का ककहरा भी ना जानने वाले लोग कैसे 20-30 सालों से मलाईदार सीटों पर काबिज हैं. बुरी से बुरी जिंदगी बिताते खिलाड़ियों के किस्से भी आप आए दिन सुनते ही हैं.

हमें ओलंपिक अभियान के लिए ऐसे नेता चाहिए जिनका हम सम्मान करते हों, राजनीतिक कद भी वजह से नहीं बल्कि खेल और एथलीट्स के लिए वह क्या कर सकते हैं, इस वजह से. हमें ऐसे लोग चाहिए जिनसे प्रेरणा मिले और इस तरह के बदतर हालात फिर ना पैदा हों.

(लेखक व्यक्तिगत स्वर्ण पदक जीतने वाले एकमात्र भारतीय निशानेबाज हैं.)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें