scorecardresearch
 

चौथे टेस्ट में इंग्लैंड के लिए मुसीबत बन सकता है टीम इंडिया का ये बॉलर, घरेलू मैदान पर है खतरनाक

इंग्लैंड के लिए चौथे टेस्ट में भी मुसीबत कम नहीं होने वाली है. अक्षर-अश्विन के साथ ही अब उन्हें उमेश यादव से पार पाना होगा. जसप्रीत बुमराह के बाहर होने के बाद उमेश के चौथे टेस्ट में खेलने की पूरी उम्मीद है.

Umesh Yadav (Getty) Umesh Yadav (Getty)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट में उमेश यादव को मिल सकता है मौका
  • बुमराह के बाहर होने के बाद उमेश के खेलने की पूरी उम्मीद
  • उमेश ने पिछले कुछ सालों में घर पर बेहतरीन प्रदर्शन किया है

इंग्लैंड के लिए चौथे टेस्ट में भी मुसीबत कम नहीं होने वाली है. अक्षर-अश्विन के साथ ही अब उन्हें उमेश यादव से पार पाना होगा. जसप्रीत बुमराह के बाहर होने के बाद उमेश के चौथे टेस्ट में खेलने की पूरी उम्मीद है. मौजूदा सीरीज में 2-1 से आगे टीम इंडिया 4 मार्च को आखिरी मैच में उतरेगी. उमेश ने पिछले कुछ सालों में घर पर बेहतरीन प्रदर्शन किया है, जो इंग्लैंड के लिए खतरे की घंटी है.

घरेलू मैदानों पर 2017 तक के आंकड़े देखें तो उमेश यादव ने 14 टेस्ट मैचों में 33 विकेट ही चटकाए थे. लेकिन उसके बाद से भारतीय जमीं पर वह खतरनाक साबित हुए हैं. उन्होंने 2017 के बाद के अब तक 14 टेस्ट मैचों में 63 विकेट अपने नाम किए हैं. 33 साल के उमेश यादव इस दौरान घर पर एक टेस्ट मैच में 10 विकेट लेने वाले तीसरे भारतीय तेज गेंदबाज बने. उमेश से पहले कपिल देव और जवागल श्रीनाथ ही यह कारनामा कर पाए थे.

2017-19 के पीरियड में उमेश ने 14 घरेलू टेस्ट मैचों में 35.2 की स्ट्राइक-रेट से 63 विकेट चटकाए. 2017 से अब तक 20 से ज्यादा विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाजों में उनका स्ट्राइक रेट सबसे बेहतर है. साथ ही वह 2017 से अब तक सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाजों में तीसरे नंबर पर हैं. 

रविचंद्रन अश्विन ने इस दौरान सबसे ज्यादा 97 विकेट लिये हैं, जबकि रवींद्र जडेजा ने 67 विकेट निकाले हैं. दरअसल, उमेश का प्रदर्शन हमेशा अच्छा नहीं रहा. 2017 से पहले उनके प्रदर्शन में उतनी निरंतरता नहीं थी.

उमेश यादव के लिए 2019 का सत्र बेहद यादगार रहा था. उन्होंने स्विंग और बाउंस से बल्लेबाजों को काफी परेशान किया था. रांची टेस्ट में उमेश ने साउथ अफ्रीकी धुरंधर फाफ डुप्लेसिस को जिस गेंद पर आउट किया था, वह आज भी लोगों को याद होगा. उस सत्र के बाद उमेश ने कहा था कि जब आप एक ही स्पॉट पर गेंदबाजी करते रहते हैं, तो बल्लेबाज आपकी गेंदों को समझ लेता है. एक गेंदबाज के रूप में यदि आप क्रीज का उपयोग करते हैं, तो आप एक नया एंगल बनता है. बतौर तेज गेंदबाज यदि आप क्रीज का उपयोग नहीं करते हैं, तो आप बल्लेबाज के दिमाग में यह संदेह पैदा नहीं कर पाएंगे कि  गेंद कितनी स्विंग करेगी. 

उमेश यादव ने अब तक भारतीय टीम के लिए 48 टेस्ट मैचों में 30.54 की औसत से 148 विकेट लिये हैं. उमेश ने 75 वनडे इंटरनेशनल मैचों में 106 विकेट निकाले हैं. साथ ही उमेश ने 7 टी20 मैचों में 9 विकेट झटके हैं. चौथे टेस्ट से पहले इंग्लैंड की टीम अक्षर और अश्विन का काट ढूंढने में लगी है, ऐसे में उमेश यादव इंग्लिश टीम के लिए अतिरिक्त परेशानी का सबब हो सकते हैं. भारत और इंग्लैंड के बीच चौथा टेस्ट मैच 4 मार्च से अहमदाबाद में खेला जाना है. भारत चार मैचों की टेस्ट सीरीज में इस समय 2-1 से आगे है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें