scorecardresearch
 

बैडमिंटन खिलाड़ी पी. कश्यप ने कहा, आलोचकों ने मुझे खारिज कर दिया था

सैयद मोदी अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में खिताबी जीत के साथ नये सत्र की शानदार शुरुआत करने वाले भारत के शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी पारुपल्ली कश्यप ने कहा कि उन्हें अपने आलोचकों को शांत करने के लिए इस जीत की जरूरत थी जिन्होंने उन्हें खारिज कर दिया था.

पारुपल्ली कश्यप पारुपल्ली कश्यप

सैयद मोदी अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में खिताबी जीत के साथ नये सत्र की शानदार शुरुआत करने वाले भारत के शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी पारुपल्ली कश्यप ने कहा कि उन्हें अपने आलोचकों को शांत करने के लिए इस जीत की जरूरत थी जिन्होंने उन्हें खारिज कर दिया था.

साल 2012 के चैम्पियन कश्यप ने सोमवार को दुनिया के पांचवें नंबर के खिलाड़ी के श्रीकांत को 52 मिनट चले फाइनल में 23-21, 23-21 से हराकर खिताब जीता था. उन्होंने कहा कि यह उनके लिए सत्र की शानदार शुरुआत है.

कश्यप ने कहा, ‘यह सत्र की शानदार शुरुआत है. असल में नवंबर में ही मैंने दो टूर्नामेंटों में अच्छा प्रदर्शन करने के बारे में सोचा था. मलेशिया ग्रां प्री गोल्ड और सैयद मोदी. मैं मलेशिया में प्री क्वार्टर फाइनल में हार गया लेकिन इस प्रतियोगिता में मैं खिताब जीतने में सफल रहा.’

उन्होंने कहा, ‘यह टूर्नामेंट जीतकर मैं बेहद खुश हूं. मुझे लगता है कि अच्छा प्रदर्शन करने के लिए मुझे इसकी जरूरत थी. श्रीकांत ने पिछले साल काफी अच्छा प्रदर्शन किया और अचानक वह दुनिया का चौथे नंबर का खिलाड़ी बन गया और लोगों ने मुझे खारिज कर दिया.’

कश्यप को जहां खिताब जीतने की खुशी है वहीं टूर्नामेंट के दौरान उनकी पेट की मांसपेशियों में चोट लग गई. उन्होंने कहा, ‘मैच के दौरान मेरी ऐब्स में चोट लग गई. मेरे पेट में हल्की चोट है, मुझे नहीं पता कि यह चोट अभी कैसी है. हैदराबाद में अभी कोई अच्छा फिजियो नहीं है इसलिए मैं मुंबई में इसका उपचार करा सकता हूं. मैं अभी इसे लेकर थोड़ा चिंतित हूं.’ उन्होंने कहा, ‘भाग्य से मेरे पास समय है क्योंकि अगला महत्वपूर्ण टूर्नामेंट आल इंग्लैंड है इसलिए मेरे पास उबरने और ऑल इंग्लैंड में खेलने का समय है.’

साल 2015 बैडमिंटन खिलाड़ियों के लिए अहम वर्ष है क्योंकि इसी साल ओलंपिक क्वालिफिकेशन तय होगा लेकिन कश्यप ने कहा कि उनका ध्यान प्रतियोगिता जीतने पर हैं और रैंकिंग पर नहीं.

उन्होंने कहा, ‘मैं यह तय नहीं कर पा रहा हूं कि मैं किन प्रतियोगिताओं में खेलूं लेकिन निश्चित तौर पर मैं ऑल इंग्लैंड में खेलूंगा. यह महत्वपूर्ण वर्ष है. श्रीकांत काफी आगे निकल गया है और अब मैं और प्रणय करीब है लेकिन अभी मैं रैंकिंग के बारे में नहीं सोच रहा हूं.’

इनपुटः भाषा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें