scorecardresearch
 

भारत हॉकी टीम फाइनल में ऑस्‍ट्रेलिया से 8-0 से हारी

भारतीय हॉकी टीम विश्व चैम्पियन आस्ट्रेलिया के सामने पूरी तरह दबी सहमी नजर आई और निहायत ही एकतरफा मुकाबले में 0-8 से शर्मनाक पराजय का सामना करने के बाद उसे राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा.

पिछले दो मैचों में जबर्दस्त आक्रामकता की बानगी पेश करने वाली भारतीय हॉकी टीम विश्व चैम्पियन आस्ट्रेलिया के सामने पूरी तरह दबी सहमी नजर आई और निहायत ही एकतरफा मुकाबले में 0-8 से शर्मनाक पराजय का सामना करने के बाद उसे राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा. भारत की यह सबसे शर्मनाक हार में से एक है.

राष्ट्रमंडल खेलों के इतिहास में पुरूष हाकी स्पर्धा में भारत का यह पहला पदक है. इन खेलों में 1998 में हॉकी को शामिल किये जाने के बाद भारत चौथे स्थान पर रहा जबकि मैनचेस्टर (2002) में उसने हिस्सा नहीं लिया और मेलबर्न (2006) में पांचवें स्थान पर रहा था.

दूसरी ओर रिक चार्ल्सवर्थ की आस्ट्रेलियाई टीम ने राष्ट्रमंडल खेलों में लगातार चौथा स्वर्ण पदक जीतकर विश्व हॉकी में अपनी बादशाहत पर फिर मुहर लगा दी. एक ही साल में विश्व कप, चैम्पियंस ट्राफी और राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली वह पहली टीम बन गई.

आस्ट्रेलिया के लिये जासन नीलसन (17वां और 28वां मिनट), क्रिस सिरियेलो (20वां), ल्यूक डोरनर (34वां और 51वां मिनट),साइमन ओर्चार्ड (60वां) और जैमी ड्वायेर (67वां मिनट) और ग्लेन टर्नर (70वां) ने गोल किये.

पहले ही मिनट से आक्रामक खेल दिखाने वाली आस्ट्रेलियाई टीम ने भारतीय गोल पर लगातार हमले बोले. वहीं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत कई विशिष्ट अतिथियों की मौजूदगी में खेल रही भारतीय टीम वह जोश, जुनून और आक्रामकता नहीं दिखा सकी जो उसने पाकिस्तान और इंग्लैंड के खिलाफ दिखाई थी.{mospagebreak}राजपाल सिंह की हौसलाअफजाई के लिये भारी तादाद में ध्यानचंद स्टेडियम में जमा दर्शकों को निराशा ही हाथ लगी. इसके साथ ही उन्हें 1982 एशियाई खेलों की यादें ताजा हो गई जब फाइनल में इसी मैदान पर भारत को 7-1 से पराजय का सामना करना पड़ा था लेकिन तब सामने पाकिस्तानी टीम थी.

आस्ट्रेलिया के हाथों इस मैदान पर भारत की यह लगातार तीसरी हार है. इससे पहले फरवरी मार्च में हुए विश्व कप में पूल चरण में आस्ट्रेलिया ने उसे 5-2 के अंतर से हराया. इन खेलों में भी पूल चरण में यही कहानी दोहराई गई.

आस्ट्रेलिया के लिये पांचवें मिनट में नीलसन को गोल करने का सुनहरा मौका मिला लेकिन उनका शॉट बाहर की ओर निकल गया. भारत को 15वें मिनट में पहला पेनल्टी कार्नर मिला जिस पर सरवनजीत की पुश भारतीय ड्रैग फ्लिकर ट्रैप ही नहीं कर सके.

इसके दो मिनट बाद आस्ट्रेलिया ने भारतीय गोल पर हमला बोला. डी के भीतर गेंद भारतीय डिफेंडर संदीप सिंह की स्टिक से टकराई और डिफ्लैक्शन पर नीलसन ने इसे गोल के भीतर डाल दिया. आस्ट्रेलियाई टीम लगातार दो पेनल्टी कार्नर मिले. तीसरे पेनल्टी कार्नर को बेहद आसानी से सिरिएलो ने गोल में बदल दिया. नीलसन ने 28वें मिनट में आस्ट्रेलिया की बढत तिगुनी कर दी और भारतीय डिफेंस को पूरी तरह छितर बितर करके आसान गोल दागा.{mospagebreak}

ब्रेक से एक मिनट पहले डोरनर ने पेनल्टी कार्नर को तब्दील करके आस्ट्रेलिया की बढत 4-0 की कर दी. दूसरे हॉफ में भी आस्ट्रेलिया ने भारतीयों को दबाव से निकलने नहीं दिया. आस्ट्रेलिया के लिये 51वें मिनट में डोरन ने पेनल्टी कार्नर को तब्दील किया. भारत को भी 58वें मिनट में पेनल्टी कार्नर मिला लेकिन संदीप सिंह का शॉट कमजोर रहा.

आस्ट्रेलिया ने इसके बाद भी गोलों की बारिश करना जारी रखा. ओर्चार्ड ने 60वें मिनट में भारतीय डिफेंस में सेंध लगाकर आस्ट्रेलिया को छठा गोल दिया. इसके बाद अपना 250वां अंतरराष्ट्रीय मैच खेल रहे ड्वायेर ने 67वें मिनट में गोल दागा. आखिर सेकंड में टर्नर ने एक और गोल करके आस्ट्रेलिया की 8-0 से जीत पर मुहर लगा दी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें