scorecardresearch
 

1979 विश्‍व कप में भारत नहीं जीता एक भी मैच

दूसरा विश्व कप भी इंग्लैंड में आयोजित किया गया. इस विश्व कप में पहली बार गैर टेस्ट क्रिकेट खेलने वाली टीमों को विश्व कप में भाग लेने के लिए क्वालीफाई करना पड़ा. पिछले विश्व कप की तरह 1979 के विश्व कप का फाइनल भी लॉर्ड्स में खेला गया.आठ टीमों ने इस विश्व कप में हिस्सा लिया और उनमें से चार-चार टीमों के दो ग्रुप बने.

1979 दूसरा विश्व कप

रोचक तथ्‍य: भारतीय टीम इस विश्व कप में एक भी मैच नहीं जीत पाई.


दूसरा विश्व कप भी इंग्लैंड में आयोजित किया गया. इस विश्व कप में पहली बार गैर टेस्ट क्रिकेट खेलने वाली टीमों को विश्व कप में भाग लेने के लिए क्वालीफाई करना पड़ा. पिछले विश्व कप की तरह 1979 के विश्व कप का फाइनल भी लॉर्ड्स में खेला गया.आठ टीमों ने इस विश्व कप में हिस्सा लिया और उनमें से चार-चार टीमों के दो ग्रुप बने.

इस बार ग्रुप ए में इंग्लैंड, पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया और कनाडा की टीमें थी, तो ग्रुप बी में वेस्टइंडीज, न्यूज़ीलैंड, श्रीलंका और भारत की टीम आईसीसी ट्रॉफ़ी जीतने के कारण विश्व कप में खेलने आई थी.

खिताब की तगड़ी दावेदार वेस्टइंडीज की टीम दो मैच जीतकर अपने ग्रुप में शीर्ष स्थान पर रही. श्रीलंका के खिलाफ उसका मैच बारिश की भेंट चढ़ गया. श्रीलंका ने भारत को हराकर प्रतियोगिता का सबसे बड़ा उलटफेर किया. इस ग्रुप से न्यूजीलैंड की टीम दूसरे नंबर पर रही. ग्रुप ए से इंग्लैंड की टीम ने सभी मैच जीतकर शीर्ष स्थान हासिल किया, तो पाकिस्तान ने कनाडा और ऑस्ट्रेलिया को हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई.

पहले सेमीफाइनल में इंग्लैंड की भिड़ंत न्यूज़ीलैंड से हुई. माइक ब्रियरली और ग्राहम गूच की शानदार पारी की बदौलत इंग्लैंड ने आठ विकेट पर 221 रन बनाए. डेरेक रेंडल ने भी 42 रनों की अहम पारी खेली. न्यूज़ीलैंड ने भी अच्छी शुरुआत की और जॉन राइट ने 69 रन ठोंके. लेकिन अच्छे ऑलराउंडर के होते भी टीम इंग्लैंड से नौ रन पीछे रह गई.

दूसरे सेमीफाइनल में पहले खेलते हुए वेस्टइंडीज ने छह विकेट पर 293 रन बनाए. ग्रीनिज़ ने 73 और डेसमंड हेंस ने 65 रन बनाए. विवियन रिचर्ड्स ने भी 42 रनों का योगदान दिया. लेकिन जहीर अब्बास और माजिद खान ने वेस्टइंडीज के पसीने छूटा दिए. दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 166 रनों की साझेदारी की. हालांकि उनके आउट होते ही पाकिस्तान की पारी लड़खड़ाई और वेस्टइंडीज 43 रनों से जीत गया. माजिद ख़ान ने 81 और जहीर अब्बास ने 93 रन बनाए.

23 जून को लॉर्ड्स के मैदान पर लगातार दूसरी बार फाइनल खेलने पहुंची वेस्टइंडीज की टीम तो इस बार मेजबान इंग्लैंड को भी किस्मत आज़माने का मौका मिला. विवियन रिचर्ड्स ने शानदार शतक ठोंका और कॉलिस किंग ने भी बेहतरीन पारी खेली. वेस्टइंडीज ने 286 रनों का स्कोर खड़ा किया. रिचर्ड्स 138 रन पर नाबाद रहे जबकि किंग ने 86 रन बनाए. इंग्लैंड ने अच्छी शुरुआत की और पहले विकेट के लिए 129 रन जोड़े. इन दोनों के आउट होते ही इंग्लैंड की टीम धराशायी हो गई. सिर्फ गूच ने 32 रन बनाए. इंग्लैंड की टीम 51 ओवर में 194 रन बनाकर आउट हो गई. वेस्टइंडीज ने लगातार दूसरी बार विश्व कप पर क़ब्ज़ा किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें