scorecardresearch
 

सिडनी वनडे: भारत की कोशिश क्लीन स्वीप हार से बचने की

धोनी की अब साथी खिलाड़ियों से एक ही उम्मीद होगी कि वे अपने खेल के स्तर को वहां तक ले जाएं जहां 5-0 की अपमानजनक पराजय से बचा जा सके. सिडनी में अगर जीत मिली तो फिर यह 26 जनवरी से शुरू हो रही तीन टी-20 श्रृंखला के लिए टॉनिक का काम करेगी.

ऑस्ट्रेलिया के साथ पांच एकदिवसीय मैचों की श्रृंखला में चार मैचों में हार का सामना करने वाली टीम इंडिया ने सिडनी टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी की फैसला किया. भारत पहले ही सीरीज हार चुका है और इसलिए पांचवें वनडे में दो नए खिलाड़ियों जसप्रीत बुमरा और मनीष पांडे को टीम में जगह दी गई है. इन नए खिलाड़ियों को टीम में जगह भवनेश्वर कुमार और रहाणे के स्थान पर मिली है.

रोहित शर्मा और विराट कोहली की दमदार बल्लेबाजी के बावजूद टीम की नाव बार-बार डूब रही है . पहले तीन एकदिवसीय में गेंदबाजों ने रुलाया और चौथे एकदिवसीय में बल्लेबाज उस वक्त पस्त पड़ गए जब जीत सामने खड़ी थी. मैच में कप्तान महेंद्र सिंह धोनी खुद असफल रहे और टीम की बल्लेबाजी और गेंदबाजी में नाकामी का बचाव करने की कोशिश में हार का जिम्मा अपने ऊपर ले लिया .

हर हाल में जीतना चाहेगी टीम इंडिया
धोनी की अब साथी खिलाड़ियों से एक ही उम्मीद होगी कि वे अपने खेल के स्तर को वहां तक ले जाएं जहां 5-0 की अपमानजनक पराजय से बचा जा सके . सिडनी में अगर जीत मिली तो फिर यह 26 जनवरी से शुरू हो रही तीन टी-20 श्रृंखला के लिए टॉनिक का काम करेगी. मौसम की खराबी की वजह से भारतीय टीम शुक्रवार को अभ्यास नहीं कर सकी. शनिवार के मैच पर भी बारिश का साया मंडरा रहा है. भविष्यवाणी हुई है कि मैच के दिन बारिश हो सकती है.

 

सिडनी के मैदान पर उतरने से पहले टीम इंडिया को काफी माथापच्ची करनी होगी. खासकर गेंदबाजी के मामले को लेकर. लेकिन, विजय रथ पर सवार ऑस्ट्रेलिया के सामने एकमात्र चिंता विस्फोटक बल्लेबाज ग्लेन मैक्सवेल की घुटने की चोट है. शनिवार को उनके खेलने पर संशय बना हुआ है. यह चिंता भी बहुत बड़ी नहीं है क्योंकि ऑस्ट्रेलिया के पास ऐसे खिलाड़ी हैं जो मैक्सवेल की जगह को आसानी से भर सकते हैं.

आत्मविश्वास की कमी से जूझ रही टीम इंडिया को जीत की सख्त जरूरत है. खासकर इसलिए भी कि इस श्रृंखला को मार्च में भारत में होने वाले टी-20 विश्व कप की तैयारी के रूप में देखा जा रहा है.

स्मिथ ने खिलाड़ियों के कभी न हार मानने के रवैये को सराहा
जबकि ऑस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीव स्मिथ ने भारत के साथ एकदिवसीय मैचों की श्रृंखला में टीम की लगातार जीत का पूरा श्रेय अपने खिलाड़ियों के कभी हार न मानने वाले रवैये को दिया है. ऑस्ट्रेलिया पांच एकदिवसीय मैचों की श्रृंखला में 4-0 से आगे है और उसकी कोशिश पांचवां मैच जीतकर भारत पर 'क्लीन स्वीप' की है. सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर शनिवार को खेले जाने वाले पांचवें एकदिवसीय से पहले स्मिथ ने अपने खिलाड़ियों की दिल खोलकर तारीफ की.

ओवल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ियों ने भारत के जबड़े से जीत छीन ली थी. इस मैच के बारे में स्मिथ ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के लेख में लिखा, 'इसमें कोई शक नहीं है कि बतौर ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी मैं जिन जीतों में शामिल रहा हूं, मानुका की जीत उनमें से सबसे शानदार में से एक थी. विपक्षी टीम की गुणवत्ता और जिन हालात में हम थे, उसके आधार पर मैं यह कह रहा हूं.'

स्मिथ ने लिखा है, 'भारत एक विकेट के नुकसान पर 277 रन पर था. जीत के लिए 72 रन चाहिए थे. प्रति गेंद एक रन की दरकार थी. ऐसे में आप यही देखते हैं कि बल्लेबाजी करने वाली टीम आसानी से जीत जाती है. लेकिन, पूरा श्रेय जाता है हमारे लड़कों को, उनके कभी हार न मानने वाले रवैये को.'

स्मिथ ने कहा, 'शिखर धवन और विराट कोहली की लगातार बढ़ रही भागीदारी के बीच हमारी योजना एक या दो विकेट निकालने की थी. लेकिन, ये विकेट नहीं आ रहे थे. दोनों बेहतरीन खेल रहे थे. आसानी से गैप ढूंढ रहे थे, आसानी से गेंद को सीमा रेखा के बाहर पहुंचा रहे थे. लेकिन, हमें पता था कि भारत का मध्यक्रम अनुभवी नहीं है.'

एकदिवसीय मैचों के बाद टी-20 श्रृंखला के बारे में स्मिथ ने कहा, 'एकदिवसीय के बाद हम ध्यान टी-20 श्रृंखला पर केंद्रित करेंगे. यह एडिलेड में 26 जनवरी से शुरू हो रही है जो ऑस्ट्रेलिया दिवस भी है और भारत का गणतंत्र दिवस भी. ये मैच मार्च में होने वाले टी-20 विश्व कप की हमारी तैयारियों के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण हैं.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें