scorecardresearch
 

टीम इंडिया को कप्तान विराट कोहली का संदेश, कहा- दिल पे मत ले यार

टीम इंडिया के टेस्ट कप्तान ने अपने खिलाड़ियों को एक खास संदेश दिया है. कोहली ने स्पिन के लिए अनुकूल पिचों पर अफ्रीकी टीम से टेस्ट खेलने पर होने वाली आलोचना पर कहा कि वो ऐसी बातों को दिल पर नहीं लेते हैं.

विराट कोहली विराट कोहली

टीम इंडिया के टेस्ट कप्तान ने अपने खिलाड़ियों को एक खास संदेश दिया है. कोहली ने स्पिन के लिए अनुकूल पिचों पर अफ्रीकी टीम से टेस्ट खेलने पर होने वाली आलोचना पर कहा कि वो ऐसी बातों को दिल पर नहीं लेते हैं. इस एक बात से कोहली ने खिलाड़ियों को ये बता दिया कि वो अच्छे और बुरे प्रदर्शन को दिल पर लेने की जगह उससे आगे निकलते हुए अच्छा प्रदर्शन करने पर ध्यान लगाएं.

इस दौरान कोहली ने ये भी कहा कि इस तरह की पिचें नतीजा दे रही हैं जिससे टेस्ट मैचों में कम होते दर्शक दोबारा मैदान पर खींचे आएंगे. गौरतलब है कि मोहाली में जीत के बावजूद दर्शकों की संख्या में काफी कमी रही.

कोहली से जब यह पूछा गया कि उनकी कप्तानी में टेस्ट मैचों में जीत की हैट्रिक पर क्या मोहली के विकेट की प्रकृति हावी रही तो उन्होंने सीधा जवाब देते हुए कहा, ‘यह तब ही निराशाजनक होता है जब आप जो लिखा या कहा जाए उसे दिल से लगा लेते हो और इसके बारे में काफी अधिक सोचते हो. हम प्रक्रिया पर ध्यान केंद्रित करते हैं और इस बारे में नहीं सोचते कि क्या लिखा या कहा जा रहा है. तथ्य यह है कि हमने टेस्ट मैच जीता और टीम के रूप में हम इससे अच्छा महसूस कर रहे हैं.’

‘नतीजा देंगे तभी दर्शक देखने आएंगे’
शनिवार से शुरू हो रहे दूसरे टेस्ट की पूर्व संध्या पर कोहली ने कहा, ‘हम बाहरी चीजों को लेकर या अपने नियंत्रण से बाहर की चीजों को लेकर हो रही चर्चा से चिंतित नहीं हैं. अगर किसी को कोई चीज अपनी रुचि के अनुसार लगती है और वह इस बारे में कुछ कहता या लिखता है तो यह उनकी पसंद है. यह हम पर निर्भर करता है कि हम इसे दिल से लगाते हैं या चुपचाप बैठ जाते हैं और निराश महसूस करते हैं. हम बिल्कुल भी निराश नहीं हैं. हमने क्रिकेट का मैच जीता है. हम इसे लेकर काफी खुश हैं.’ पहले टेस्ट में काफी दर्शन मैदान पर नहीं पहुंचे और कप्तान ने आलोचकों पर निशाना साधते हुए कहा कि नतीजा देने वाली विकेट ही दर्शकों को मैदान पर लेकर आएंगी.

कोहली ने कहा, ‘हमें खुश होना चाहिए हमें नतीजा देने वाली पिचें मिल रही हैं क्योंकि तब अधिक लोग मैच देखने आएंगे. इसकी जगह पिच की आलोचना करने और यह कहने का कोई मतलब नहीं है कि यह उचित नहीं है.’ भारतीय कप्तान ने कहा कि खिलाड़ियों का मैच पर ध्यान इतना अधिक रहता है कि मैच के दौरान अन्य चीजें बेमानी हो जाती हैं.

उन्होंने कहा, ‘हम इससे बेहद दुखी नहीं होते कि काफी अधिक लोग इस टेस्ट मैच को देखने नहीं आ रहे. बेशक, आपको दर्शकों से पूरी तरह से भरे स्टेडियम में खेलना पसंद है लेकिन अंत में आपका ध्यान आपको फेंकी जा रही गेंद पर रहता है और एक गेंदबाज के रूप में आपका ध्यान इस पर होता है कि आपको कैसी गेंद फेंकनी है. हमें उम्मीद है कि इस टेस्ट मैच को देखने अधिक लोग आएंगे क्योंकि यह रोमांचक सीरीज हैं, दो रोमांचक और काफी मजबूत टीमों के बीच.’

‘मैच को लेकर नहीं बदली मेरी मानसिकता’
कोहली ने कहा कि एडिलेड में पहली बार टीम की कप्तानी करने के बाद से उनकी मानसिकता में कोई बदलाव नहीं आया है लेकिन समय के साथ उन्होंने अपनी गलतियों का आकलन करना सीख लिया है. भारतीय कप्तान ने कहा, ‘मानसिकता में कोई बदलाव नहीं आया है. हो सकता है कि गलतियों से सबक सीखा हो. उस दिन एडिलेड में हम टेस्ट जीतना चाहते थे और हम बंगलुरु में भी ऐसा ही करेंगे. मानसिकता वही रहेगी लेकिन आप बैठकर अपनी गलतियां खोज सकते हो और आगे बढ़ने के साथ इनमें सुधार कर सकते हो.’ उन्होंने कहा, ‘इसी तरह बल्लेबाजी करते हुए मानसिकता में बदलाव नहीं आता लेकिन आप गलतियों में सुधार करते हो और आगे बढ़ते हो.’

मोहाली में आसान जीत के दौरान चेतेश्वर पुजारा और मुरली विजय ने शानदार प्रदर्शन किया और कोहली ने कहा कि उन्हें दोनों पर गर्व है. उन्होंने कहा, ‘उन दोनों (पुजारा और विजय) ने पिछले मैच में जिस तरह बल्लेबाजी की उससे हम सभी को उन पर काफी गर्व है. उन्हें जिस तरह बल्लेबाजी की उससे हम काफी कुछ सीख सकते हैं. हमारे बल्लेबाजों ने उस तरह जज्बा नहीं दिखाया जिस तरह दिखाना चाहिए था और हमें यह पता है. लेकिन उन दोनों ने जिस तरह बल्लेबाजी की उनसे श्रेय नहीं छीन रहे. मुझे लगता है कि उन्होंने हमें मैच में बनाए रखा ओर यह काफी महत्वपूर्ण है कि दोनों खिलाड़ी प्रत्येक पारी में खड़े रहे. दोनों पारियों में उनका योगदान हमारे लिए बेहद अहम था.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें