scorecardresearch
 
क्रिकेट

Ind vs Eng: T20 सीरीज में दो टोपियां पहनकर क्यों फील्डिंग कर रहे मॉर्गन? जानें वजह

Eoin Morgan wearing two caps in T20 series
  • 1/6

भारत ने इंग्लैंड को टी-20 सीरीज के चौथे मैच में 8 रनों से हरा दिया. मेजबान टीम ने जीत के साथ ही पांच मैचों की सीरीज में 2-2 की बराबरी कर ली. मैच के दौरान सूर्यकुमार यादव की पारी की तो खूब चर्चा हुई, लेकिन उसी दौरान इंग्लैंड के कप्तान इयोन मॉर्गन भी क्रिकेट फैन्स के बीच चर्चा का विषय थे. दरअसल, मॉर्गन भारतीय पारी के दौरान दो टोपियां पहनकर फील्डिंग करते देखे गए थे.  

 

Eoin Morgan wearing two caps in T20 series
  • 2/6

मॉर्गन चौथे मैच में ही नहीं तीसरे मैच में भी दो टोपियां पहनकर फील्डिंग करते दिखे थे. फैन्स हैरान रह गए कि आखिर मॉर्गन ऐसा क्यों कर रहे हैं. वह क्यों दो टोपियां पहनकर फील्डिंग कर रहे हैं.

Eoin Morgan wearing two caps in T20 series
  • 3/6

मॉर्गन अगर ऐसा कर रहे हैं तो इसके पीछे आईसीसी का नियम है. कोरोना काल में आईसीसी के नए नियमों के मुताबिक, मैदान पर खिलाड़ियों और अंपायरों को सामाजिक दूरी का पालन करना होगा. ऐसे में खिलाड़ी अपनी कोई भी चीज जैसे कि टोपी, चश्मा अंपायर या साथी खिलाड़ियों को नहीं दे सकते. उन्हें अपना सामान अपने पास ही रखना होगा. खिलाड़ियों को अपने सामान का ध्यान खुद रखना होगा. 
 

Eoin Morgan wearing two caps in T20 series
  • 4/6

नए नियम के कारण गेंदबाज अंपायर या साथी खिलाड़ियों को अपनी कैप नहीं दे पा रहे हैं. और इसी वजह से मॉर्गन सिर पर दो कैप पहनकर फील्डिंग करते नजर आते हैं.  दो टोपी पहनकर फील्डिंग करने वाले मॉर्गन इकलौते खिलाड़ी नहीं हैं. पिछले साल यूएई में हुए आईपीएल में भी कई बार ऐसा देखने को मिला था. (Photo- Getty Images)

Eoin Morgan wearing two caps in T20 series
  • 5/6

आईसीसी के नियम पर भड़के थे आफरीदी

पाकिस्तान क्रिकेट के पूर्व कप्तान शाहिद आफरीदी आईसीसी के इस नियम पर भड़क गए थे. पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) में मुल्तान सुल्तान्स की तरफ से खेलते हुए आफरीदी पेशावर जाल्मी के खिलाफ मैच के दौरान तब नाखुश दिखे जब उनके गेंदबाजी के लिए आने पर अंपायर ने उनकी टोपी लेने से इनकार कर दिया था. 
 

Eoin Morgan wearing two caps in T20 series
  • 6/6

तब आफरीदी ने ट्वीट किया था कि प्रिय आईसीसी हैरान हूं कि अंपायरों को गेंदबाजों की टोपी लेने की अनुमति क्यों नहीं दी गई, जबकि वे उसी जैव सुरक्षित वातावरण में रहते हैं जिसमें खिलाड़ी और प्रबंधन के लोग रहते हैं और यहां तक खेल समाप्त होने पर हाथ भी मिलाते हैं.