scorecardresearch
 

यमुनोत्री पर भी बरप सकता है कुदरत का कहर,

देवभूमि पर कुदरत का जो कहर टूटा उससे होने वाली तबाही रुकने का नाम नहीं ले रही है. केदरनाथ तो पहले ही पूरी तरह से तबाह हो चुका है और अब चार धाम की यात्रा के पहले पड़ाव यमुनोत्री पर भी संकट के बादल मंडरा रहे हैं.

X
यमुनोत्री मंदिर
यमुनोत्री मंदिर

देवभूमि पर कुदरत का जो कहर टूटा उससे होने वाली तबाही रुकने का नाम नहीं ले रही है. केदरनाथ तो पहले ही पूरी तरह से तबाह हो चुका है और अब चार धाम की यात्रा के पहले पड़ाव यमुनोत्री पर भी संकट के बादल मंडरा रहे हैं.

मंदिर में पड़ी दरारों की वजह से पूजा पहले ही रुकी हुई है और इसके दोबारा शुरू होने कोई आसार भी नजर नहीं आ रहे हैं. उत्तराखंड पर ऐसी कयामत बरसी कि सब कुछ तहस-नहस हो गया. गंगा और यमुना सहित उनकी सहायक नदियों ने तो ऐसा रौद्र रूप धारण किया कि चार धाम यात्रा का पूरा मजंर ही बदल गया.

चार धाम की यात्रा में पड़ने वाला पहला पड़ाव यमुनोत्री, जिसे यमुना का उद्गम स्थल माना जाता है और यहीं बने यमुनोत्री मंदिर में भी कुरदत का कहर टूटा है. मंदिर के फर्श से लेकर उसकी दीवारों पर तबाही के निशान हैं.

मां यमुना के उद्गम स्थल पर ऐसी तबाही की कल्पना किसी ने नहीं की थी. स्थिति यह है कि अब मंदिर प्रशासन भी मंदिर में पूजा पाठ की आम रस्मों को करने और मंदिर में दोबारा भक्तों की आवाजाही को लेकर खतरे की चेतावनी दे रहा है.

गौरतलब है कि धर्म ग्रंथों में यमुना को भगवान सूर्य की बेटी और यम की बहन कहा गया है और मान्यता है कि जो भी भक्त श्रद्धापूर्वक यमुना में स्नान करता है उन भक्तों को यम कोई यातना नहीं देते हैं. यही वजह है कि अक्षय तृतीया पर मंदिर को भक्तों के पूजा पाठ के लिए खोला जाता है और भाई-बहन के पवित्र त्यौहार भाईदूज के बाद बंद किया जाता है.

चार धाम के संबंध में यह भी कहा जाता है कि ये वही पवित्र स्थान है जहां पृथ्वी और स्वर्ग एकाकार होते हैं. तीर्थयात्री इस यात्रा के दौरान सबसे पहले यमुनोत्री से अपनी यात्रा शुरू कर गंगोत्री के दर्शन करते हैं. यहां से पवित्र जल लेकर श्रद्धालु केदारेश्वर पर जलाभिषेक करते हैं.

यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ हिंदुओं के सबसे पवित्र तीर्थ स्थान हैं. धर्मग्रंथों में कहा गया है कि जो मनुष्य यहां के दर्शन करने में सफल होते हैं, उनके न केवल इस जन्म के पाप धुल जाते हैं बल्कि वो जीवन-मरण के बंधन से भी मुक्त हो जाते हैं. लेकिन 16 और 17 जून को बादल फटने और भारी बारीश के कारण जो तबाही मची उससे न केवल चार धाम की यात्रा रुक गई बल्कि हजारों लोग मौत के आगोश में समा गए.

बद्रीनाथ में भी मची तबाही...
शिव तो संहार के देवता माने जाते हैं. उसी शिव यानी केदारनाथ के धाम में मौत ने सैलाब पर ऐसा तांडव किया कि भक्ति सिहर उठी. लेकिन तबाही का आलम तो भगवान विष्णु के दर पर भी दस्तक दे गया. शिव की आराधना के बाद भक्त भगवान विष्णु की पूजा-अर्चना के लिए बद्रीनाथ जाते हैं. 16 जुलाई की रात जब उत्तराखंड के बड़े इलाके पर आसमान टूटा तो उस वक्त बद्रीनाथ में भी हजारों भक्त अपने आराध्य के दर्शन के लिए मौजूद थे, लेकिन बद्रीनाथ का भी नाता देश के दूसरे हिस्सों से टूट गया. हजारों भक्त जहां के तहां फंस गए. फिर भी लगा कि हालात जल्द ही काबू में आ जाएंगे. लेकिन एक बार फिर से भयंकर बारिश की आहट और दूसरी तबाहियों के साए में बद्रीनाथ की यात्रा भी संभव नहीं दिखती.

जब साक्षात गंगा ही इस कदर उफान लेने  लगी तो सब कुछ बर्बाद करने पर आमादा हो गई, तब जिस गंगोत्री से गंगा निकलती हैं, चारों धाम के उस अहम केंद्र यानी गंगोत्री का दर्शन करना भी भक्तों के लिए मुश्किल हो गया. वैसे तो गंगा अकेले ही प्रलय ले आई लेकिन यमुना में भी ऐसा उफान आया कि यमुनोत्री की यात्रा भी खतरे में पड़ गई.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें