scorecardresearch
 
अध्यात्म

Vastu: श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर को बताए थे वास्तु के ये 5 नियम, घर में बढ़ाते हैं धन और संपन्नता

श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर को बताए थे वास्तु के 5 नियम
  • 1/7

वास्तु (Vastu) के अनुसार किए गए कार्य शुभ और मंगलमयी परिणाम देते हैं. भगवान श्रीकृष्ण ( Jai Shri krishna) स्वयं वास्तु का विशिष्ट ज्ञान रखते थे. युधिष्ठिर के राजतिलक के समय श्रीकृष्ण ने उन्हें राज्य और घर की सुख-समृद्धि के लिए वास्तु के उपाय बताए थे. ज्योतिषविद कमलनंद लाल के मुताबिक, यदि श्रीकृष्ण के बताए उन वास्तु नियमों को लोग आज अपने जीवन में स्थापित कर लें तो निश्चित ही इसके शुभ परिणाम मिलेंगे.

घर में जरूर रखें ये 5 चीजें
  • 2/7

महाभारत में कृष्ण और युधिष्ठिर के बीच संवाद में कई चीजों का घर में रहना शुभ बताया गया है. वास्तु के दृष्टिकोण से घर में पांच चीजों का होना बेहद शुभ माना जाता है. इन पांच चीजों के होने से घर और राज्य में सुख-संपन्नता बनी रहती है. साथ ही सकारात्मक ऊर्जा का भी वास होता है. भगवान श्रीकृष्ण का कहना है कि जहां पंचतत्व हैं- धूप, दीप, पुष्प गंध और नैवैद्य. वहां वास्तु दोष की समस्या कोसों दूर रहती है.

पीने का पानी
  • 3/7

भगवान श्रीकृष्ण ने कहा युधिष्ठिर से कहा था कि आपके घर और राज्य में पीने के पानी की उचित व्यवस्था सदैव बनी रहनी चाहिए. पानी की ये व्यवस्था उत्तर-पूर्व दिशा में होनी चाहिए. यह ईशान यानी ईश्वर की दिशा कहलाती है. पौराणिक काल से ये मान्यता है कि प्यासे को पानी पिलाने से बड़ा कोई पुण्य नहीं है.

चंदन
  • 4/7

घर में चंदन का होना भी बेहद शुभ माना जाता है. आप चंदन की लकड़ी, माला या अगरबत्ती कुछ भी रख सकते हैं. भगवान श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर से कहा था कि हजारों से सापों के लिपटने के बाद भी चंदन हमेशा पवित्र रहेगा. इसकी सुगंध कभी कम नहीं होगी. चंदन घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव नहीं पड़ने देता है.

गाय का घी
  • 5/7

घर में गाय के शुद्ध घी का इस्तेमाल करने से लाभ होता है. इस घी का प्रयोग आप भोजन या दीपक जलाने में कर सकते हैं. ये भी ध्यान रखें कि घर में घी कभी खत्म न हो.

शहद
  • 6/7

घर में शहद का होना भी बहुत शुभ माना जाता है. युधिष्ठिर को सुख-समृद्धि के उपाय बताते हुए भगवान श्रीकृष्ण ने कहा था कि शहद एक ऐसा पदार्थ है जो न सिर्फ आपकी आत्म को शुद्ध करता है, बल्कि इससे घर का वातावरण भी स्वच्छ रहता है. यही कारण है कि पूजा-पाठ में शहद का इस्तेमाल सर्वोपरि माना गया है.

मां सरस्वती
  • 7/7

मां सरस्वती को वीणा वादिनी कहा गया है. श्रीकृष्ण कहते हैं कि जिस तरह मां सरस्वती कीचड़ से निकले कमल पर विराजमान होती हैं. मां सरस्वति का पूजन व्यक्ति को निर्धनता से दूर रखता है. उसकी बुद्धि को शुद्ध रखता है. इसलिए मां सरस्वती की तस्वीर या पारद की मूर्ति घर में जरूर रखें.