scorecardresearch
 

Shani Jayanti 2022: शनि जयंती पर 30 साल बाद अद्भुत संयोग, आज सूर्यास्त से पहले जरूर करें ये 5 काम

Shani Jayanti 2022: माना जाता है कि इसी दिन सूर्य और छाया के संयोग से शनिदेव का जन्म हुआ था. इस दिन छोटे-छोटे उपायों से आप शनि संबंधी अपनी समस्या दूर कर सकते हैं. इस बार शनि जयंती पर 30 साल बाद एक अद्भुत संयोग भी बन रहा है. ऐसे में यदि आप जीवन में चल रही परेशानियों से छुटकारा पाना चाहते हैं तो आज कुछ विशेष उपाय करने से बड़ा लाभ मिल सकता है.

X
Shani Jayanti 2022: शनि जयंती पर 30 साल बाद बन रहा ये अद्भुत संयोग, आज ये 5 काम करने से दूर होंगी सारी तकलीफें
Shani Jayanti 2022: शनि जयंती पर 30 साल बाद बन रहा ये अद्भुत संयोग, आज ये 5 काम करने से दूर होंगी सारी तकलीफें
स्टोरी हाइलाइट्स
  • शनि जयंती पर 30 साल बाद बन रहा अद्भुत संयोग
  • शनि जयंती पर सूर्यास्त के बाद जरूर कर लें ये 5 उपाय

Shani Jayanti 2022: 30 मई को यानी आज शनि जयंती मनाई जा रही है. ये जयंती ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या को मनाई जाती है. माना जाता है कि इसी दिन सूर्य और छाया के संयोग से शनिदेव का जन्म हुआ था. इस दिन छोटे-छोटे उपायों से आप शनि संबंधी अपनी समस्याओं को दूर कर सकते हैं. इस बार शनि जयंती पर 30 साल बाद एक अद्भुत संयोग भी बन रहा है. ऐसे में यदि आप जीवन में चल रही परेशानियों से छुटकारा पाना चाहते हैं तो आज कुछ विशेष उपाय करने से बड़ा लाभ मिल सकता है. ये तमाम उपाय सूर्यास्त के बाद करें तो ज्यादा बेहतर होगा.

30 साल बाद अद्भुत संयोग
इस बार शनि जयंती पर एक अद्भुत संयोग बन रहा है. इस दिन सुबह 07 बजकर 13 मिनट से लेकर अगले दिन सुबह 05 बजकर 27 मिनट तक सर्वार्थ सिद्धि योग रहेगा. साथ ही शनिदेव अपनी स्वराशि कुंभ में रहेंगे. ज्योतिषियों का कहना है कि ऐसा संयोग करीब 30 साल बाद बन रहा है.

बार-बार हो रही दुर्घटना
अगर आपके साथ बार-बार दुर्घटना घट रही है या पैर व हड्डियों में चोट लग रही है. दुर्घटना का भय सताता है और वाहन बार-बार खराब हो जाता है तो शनि जयंती की शाम को एक लोहे का छल्ला बाएं हाथ की मध्यमा अंगुली में धारण कर लें. साथ ही सरसों के तेल में देखकर अपनी छाया का दान करें.

नौकरी या रोजगार में समस्या
तमाम प्रयासों के बावजूद आपकी नौकरी की समस्याएं समाप्त नहीं हो पा रही हैं या फिर नई नौकरी नहीं मिल पा रही है तो शनि जयंती पर पीपल के वृक्ष के नीचे सरसों के तेल के नौ दीपक जलाएं और वृक्ष की नौ परिक्रमा करें.

संतान प्राप्ति में समस्या
अगर पति या पत्नी को कोई गंभीर समस्या है जिसके कारण संतान नहीं हो पा रही है तो शनि जयंती को पीपल की जड़ में जल अर्पित करें और "ॐ क्लीं कृष्णाय नमः" का 108 बार जाप करें. यदि संभव हो तो कहीं पर पीपल का वृक्ष लगवा दें.

धन या संपत्ति की समस्या
अगर आपके तमाम प्रयासों के बावजूद आपका धन खर्च बढ़ता ही जा रहा है. हाथ में पैसा नहीं रुक रहा है. धन की समस्या बढ़ रही है तो शनि जयंती को काले वस्त्र में सिक्के रखकर दान करें.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें