scorecardresearch
 

Karwa Chauth 2020: कैसे सजाएं करवा चौथ की थाली? जानें व्रत के नियम और पूजन विधि

चंद्रमा को सामन्यतः आयु, सुख और शांति का कारक माना जाता है. इसलिए करवा चौथ पर चंद्रमा की पूजा करके महिलाएं वैवाहिक जीवन मैं सुख शांति तथा पति की लंबी आयु की कामना करती हैं.

Karwa Chauth 2020: कैसे सजाएं करवा चौथ की थाली? जानें व्रत के नियम और पूजन विधि Karwa Chauth 2020: कैसे सजाएं करवा चौथ की थाली? जानें व्रत के नियम और पूजन विधि
स्टोरी हाइलाइट्स
  • यह व्रत सूर्योदय से चंद्रोदय तक निर्जल रखा जाता है
  • बुधवार, 4 नवंबर को रखा जाएगा करवा चौथ का व्रत

करवा चौथ 2020 (Karwa Chauth 2020) का व्रत कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को रखा जाता है. मिटटी का एक पात्र जिसमें जल रखा जाता है, उसे करवा कहते हैं और चतुर्थी तिथि को चौथ कहते हैं. इस दिन मूलतः भगवान गणेश, गौरी तथा चंद्रमा की पूजा की जाती है. चंद्रमा को सामन्यतः आयु, सुख और शांति का कारक माना जाता है. इसलिए चंद्रमा की पूजा करके महिलाएं वैवाहिक जीवन मैं सुख शांति तथा पति की लंबी आयु की कामना करती हैं.

करवा चौथ का व्रत बुधवार, 4 नवंबर 2020 को रखा जाएगा. करवा चौथ के दिन मां पारवती की पूजा करने से अखंड सौभाग्‍य का वरदान प्राप्‍त होता है. मां के साथ-साथ उनके दोनों पुत्र कार्तिक और गणेश जी कि भी पूजा की जाती है. वैसे इसे करक चतुर्थी भी कहा जाता है. इस पूजा में पूजा के दौरान करवा बहुत महत्वपूर्ण होता है और इसे ब्राह्मण या किसी योग्य सुहागन महिला को दान में भी दिया जाता है.

करवा चौथ के नियम और सावधानियां
केवल सुहागिनें या जिनका रिश्ता तय हो गया है, वही महिलाएं ये व्रत रख सकती हैं. यह व्रत सूर्योदय से चंद्रोदय तक निर्जल रखा जाता है. व्रत रखने वाली कोई भी महिला काला या सफेद वस्त्र नहीं पहनती हैं. लाल वस्त्र सबसे अच्छा है. पीला भी पहना जा सकता है. इस दिन पूर्ण श्रृंगार और पूर्ण भोजन जरूर करना चाहिए.

कैसे सजाएं पूजा की थाली और क्या खास करें?
चंद्रमा के दर्शन के लिए थाली सजाएं. थाली मैं दीपक, सिन्दूर, अक्षत, कुमकुम, रोली तथा चावल की बनी मिठाई या सफेद मिठाई रखें. संपूर्ण श्रृंगार करें और करवे में जल भर लें. मां गौरी और गणेश की पूजा करें. चंद्रमा के निकलने पर छलनी से या जल में चंद्रमा को देखें. अर्घ्य दें, करवा चौथ व्रत की कथा सुनें. उसके बाद अपने पति की लंबी आयु की कामना करें. अपनी सास या किसी वयोवृद्ध महिला को श्रृंगार का सामान दें तथा उनसे आशीर्वाद लें.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें