scorecardresearch
 

Hanuman Jayanti 2021: कब है हनुमान जयंती? जानें पूजा की सही विधि और शुभ मुहूर्त

Hanuman Jayanti 2021: हनुमान जयंती पर हनुमान जी की विशेष पूजा उपासना करने का प्रावधान है. ऐसा कर जीवन की तमाम बाधाओं को दूर किया जा सकता है. इस दिन विशेष तरह के प्रयोगों से ग्रहों को भी शांत किया जा सकता है.

Hanuman Jayanti 2021: कब है हनुमान जयंती? जानें पूजा का सही विधि और शुभ मुहूर्त Hanuman Jayanti 2021: कब है हनुमान जयंती? जानें पूजा का सही विधि और शुभ मुहूर्त
स्टोरी हाइलाइट्स
  • हनुमान जी की पूजा अभिजित मुहूर्त में करें
  • ग्रहों की शांति के लिए भी हनुमान की पूजा

Hanuman Jayanti 2021: हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार, श्रीराम भक्त हनुमान का जन्म चैत्र शुक्ल पूर्णिमा को हुआ था. कुछ लोग मानते हैं कि इनका अवतरण छोटी दीपावली को हुआ था. हनुमान जयंती पर हनुमान जी की विशेष पूजा उपासना करने का प्रावधान है. ऐसा कर जीवन की तमाम बाधाओं को दूर किया जा सकता है. इस दिन विशेष तरह के प्रयोगों से ग्रहों को भी शांत किया जा सकता है. शिक्षा, विवाह के मामले में सफलता और कर्ज, मुकदमे से मुक्ति के लिए यह दिन अति विशेष होता है. इस बार हनुमान जी का जन्मोत्सव मंगलवार, 27 अप्रैल को मनाया जाएगा.

कैसे करें हनुमान जी की पूजा- हनुमान जी की पूजा अभिजित मुहूर्त में करें. उत्तर-पूर्व दिशा में चौकी पर लाल कपडा रखें. हनुमान जी के साथ श्रीराम के चित्र की स्थापना करें. हनुमान जी को लाल और राम जी को पीले फूल अर्पित करें. लड्डुओं के साथ साथ तुलसी दल भी अर्पित करें. पहले श्री राम के मंत्र "राम रामाय नमः" का जाप करें. फिर हनुमान जी के मंत्र "ॐ हं हनुमते नमः" का जाप करें.

हनुमान जयंती का शुभ मुहूर्त- हनुमान जयंती पर पूजा का शुभ मुहूर्त 26 अप्रैल को दोपहर 12:44 से 27 अप्रैल को रात 9:01 तक रहेगा. इस दौरान हनुमान जी और शनि देव की पूजा कर सकते हैं.
 
स्वास्थ्य की समस्याओं के लिए उपाय- लाल रंग के वस्त्र धारण करें. हनुमान जी को सिन्दूर , लाल फूल और मिठाई अर्पित करें. इसके बाद हनुमान जी के समक्ष हनुमान बाहुक का पाठ करें. स्वास्थ्य की बेहतरी की प्रार्थना करें.

आर्थिक लाभ के लिए उपाय- हनुमान जी के सामने चमेली के तेल का दीपक जलाएं. हनुमान जी को गुड का भोग लगाएं. इसके बाद हनुमान चालीसा का 11 बार पाठ करें. संभव हो तो इस दिन मीठी चीज़ों का दान भी करें.

मंगल दोष से मुक्ति के लिए उपाय- हनुमान जी का सम्पूर्ण श्रृंगार करवाएं. चांदी के वर्क का प्रयोग न करें. हनुमान जी को रेशम का एक लाल धागा भी अर्पित करें. इसके बाद मंगल के मंत्र "ओम क्रां क्रीं क्रौं सः भौमाय नमः" का जाप करें. लाल धागे को गले में धारण कर लें.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें