scorecardresearch
 

झंडे-लाउडस्पीकर का विवाद, फिर चौराहे से गलियों तक उपद्रव... जानिए कैसे सुलग उठा जोधपुर?

Jodhpur Violence: जोधपुर में ईद की पूर्व संध्या पर शुरू हुए बवाल पर राजधानी जयपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आपात मीटिंग बुला ली है. उधर, पीएचक्यू से एडीजी स्तर के अफसर जोधपुर भेज दिए गए हैं.

X
Jodhpur उपद्रव की कुछ तस्वीरें. Jodhpur उपद्रव की कुछ तस्वीरें.
16:46
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जोधपुर के जालोरी गेट चौराहे से शुरू हुआ विवाद
  • दो समुदायों के बीच हुई झड़प गलियों तक पहुंच गई
  • सोमवार रात से जारी है विवाद, CM ने बुलाई बैठक

राजस्थान के जोधपुर शहर में ईद की पूर्व संध्या पर दो समुदायों के बीच झड़प हो गई. पुलिस-प्रशासन ने कड़ी मशक्कत के बाद उपद्रवियों को मौके से खदेड़कर विवाद शांत करा दिया. रातभर शांति बनी रही, लेकिन सुबह फिर से बवाल शुरू हो गया. अब प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को आपात मीटिंग बुलानी पड़ी है. उधर, इस उपद्रव को लेकर सियासी बयानबाजी शुरू हो गई है. जानिए आखिर क्यों , कब और कैसे शुरू हुआ ये विवाद....

- यह पूरा मामला जोधपुर शहर के जालोरी गेट चौराहे से शुरू हुआ. यहां स्थित स्वतंत्रता सेनानी बालमुकंद बिस्सा चौराहे पर दो दिन पहले परशुराम जयंती के उपलक्ष्य में भगवा झंड़े और बैनर लगाए गए थे. इसी बीच ईद की पूर्व संध्या पर समुदाय विशेष के युवकों ने सर्किल के चारों ओर अपने लाउडस्पीकर और झंडे लगा दिए. साथ ही स्वतंत्रता सेनानी की मूर्ति से बांधकर एक बड़ा-सा धार्मिक झंडा फहरा दिया और पहले से लगे झंडों और बैनरों को वहां से हटा दिया. 

- भगवा झंडे उखाड़े जाने की सूचना पर दूसरे पक्ष के लोग भी मौके पर पहुंच गए और चौराहे से हरे झंडों समेत लाउडस्पीकरों को हटाने लगे. इस मामले के वीडियो सोशल मीडिया पर जंगल में आग की तरह फैले और समुदाय विशेष के लोग बड़ी संख्या में चौराहे पर पहुंच गए. कहासुनी हुई और दोनों पक्ष आमने-सामने हो गए. इसके बाद पथराव और तोड़फोड़ जैसी घटनाएं होनी लगीं.  

- इस घटना की सूचना लगते ही पुलिस प्रशासन के आला अधिकारी और भारी दलबल के साथ जालोरी गेट चौराहे पर पहुंचे. इस दौरान उपद्रवियों को खदेड़ने के लिए पुलिस ने लाठियां भांजी और आंसू गैस के गोले दागे. देर रात इलाका भी खाली करवा लिया गया. साथ ही अफवाह न फैले,  इसलिए रात एक बजे इंटरनेट सेवा भी बंद करवा दी गई. भीड़ तितर-बितर हुई तो पुलिस ने राहत की सांस ली. 

- इसके कुछ देर बाद ही ईदगाह रोड से बड़ी संख्या में हथियारों के साथ लोगों का जत्था चौराहे पर आ गया और पुलिस पर पथराव करने लगा. इन उपद्रवियों से निपटने के लिए फिर से पुलिस बल ने आंसू गैस के गोले दागे. इस पथराव में कई पुलिसवाले घायल भी हो गए. एतिहयातन इलाके में भारी तादाद में आरएसी तैनात कर दी गई. 

आज सुबह फिर पथराव और उपद्रव

-तनाव के बीच आज सुबह होने पर शहर में ईद की नमाज हुई. इसके बाद दोबारा पथराव शुरू हो गया. सनीचर जी थाने इलाके में उपद्रवियों ने 15-20 चार पहिया वाहनों के कांच फोड़ डाले. इसी दौरान जालोरी गेट चौराहे पर भी जमा हुए समुदाय विशेष के लोगों को पुलिस ने खदेड़ा. 

BJP विधायक के घर के बाहर आगजनी

- केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने महापौर वनिता सेठ सूरसागर, विधायक सूर्यकांता व्यास सहित कई BJP कार्यकर्ताओं के साथ वार्ता की. उधर, उपद्रवियों ने प्रदर्शन करते हुए बीजेपी विधायक व्यास के घर के बाहर खड़े दो पहिया वाहनों को फूंक दिया.    

- जोधपुर में डीसीपी ईस्ट और वेस्ट ने मोर्चा संभाल हुआ था. हालांकि, हालात कंट्रोल होते न देख राजधानी जयपुर से एडीजी क्राइम रवि प्रकाश मेहरडा और एडीजी संजय अग्रवाल जोधपुर  पहुंच गए हैं. 

- राजस्थान पुलिस ने जोधपुर झड़प के सिलसिले में तीन लोगों को हिरासत में लिया है. वहीं, जोधपुर के अब 10 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. ये कर्फ्यू 4 मई की रात तक जारी रहेगा. 

- उधर, मुख्यमंत्री निवास पर मुलाकात के सारे कार्यक्रमों को बीच में छोड़कर ही सीएम अशोक गहलोत दफ्तर पहुंच गए हैं. उन्होंने जोधपुर में लॉ एन्ड ऑर्डर की व्यवस्था को लेकर डीजीपी समेत वरिष्ठ अधिकारियों को अर्जेन्ट हाई लेवल मीटिंग के लिए बुला लिया है.

क्या बोले सीएम अशोक गहलोत?

- CM गहलोत ने ट्वीट कर कहा है कि जोधपुर में कल देर रात से जो तनाव पैदा हुआ है वो बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है. हमारे राजस्थान की, मारवाड़ की परम्परा रही है कि सभी समाज के, सभी धर्मों के लोग हमेशा, हर त्यौहारों पर भी प्रेम भाईचारे से रहते आए हैं, मैं अपील करना चाहूंगा कि तमाम लोग शांति बनाए रखें और तनाव समाप्त करें.

- मुख्यमंत्री ने कहा है कि वह जोधपुर में हुए घटनाक्रम पर निरंतर नज़र बनाए हुए हैं और अति व्यस्त हैं. अपने जन्मदिन के मौके पर मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की है कि वे उन्हें शुभकामना के संदेश भेज दें. कृपया मुख्यमंत्री निवास पर शुभकामना प्रेषित करने के लिए न पहुंचें. बता दें कि आज (3 मई) को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का 72वां जन्मदिन है. 

BJP हुई हमलावर

- जोधपुर के इस उपद्रव को लेकर राज्य की विपक्षी पार्टी बीजेपी ने कांग्रेस सरकार को घेर लिया है. वहीं, केंद्र की सरकार में मंत्री अर्जुनराम मेघवाल ने कहा है कि कांग्रेस वोट बैंक की राजनीति के कारण देश को बटाने का काम रही है. जिस तरह से राजस्थान में धार्मिक हिंसा हो रही है और कानून व्यवस्था खत्म हो चुकी है, उस पर बीजेपी प्रदेश भर प्रदर्शन करेगी. अशोक गहलोत प्रदेश के गृहमंत्री भी हैं, इसलिए उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें