scorecardresearch
 

UP Election: अमेठी में क्या है विकास का सच? बुलेट रिपोर्टर ने जानी जनता की राय

UP Election: अमेठी में क्या है विकास का सच? बुलेट रिपोर्टर ने जानी जनता की राय

अमेठी जो कि उत्तर प्रदेश की ही नहीं, देश की वीवीआईपी लोकसभा सीट है. सियासत की दुनिया में नेहरू-गांधी परिवार का ये गढ़ जितना मशहूर है और अमेठी की धरातल पर जो तस्वीर है, उसमें बहुत बड़ा फर्क है. कई दशकों के कांग्रेस राज में अमेठी विकास की बाट जोहती रही तो हालात बीजेपी राज में भी कुछ खास बदले नहीं हैं. संजय गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी के बाद राहुल गांधी को अमेठी ने भरपूर समर्थन दिया. 2014 में मोदी नाम की आंधी में भी अमेठी राहुल गांधी के साथ खड़ी रही. 2019 लोकसभा चुनाव में स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को हराकर यहां का इतिहास बदल दिया, लेकिन इसका ट्रेलर दो साल पहले ही दिख गया था. 2022 के विधानसभा चुनाव के लिए अमेठी में एक बार फिर सभी पार्टियां ताल ठोंक रही हैं. कांग्रेस कार्यकर्ता 2019 में राहुल गांधी की हार पचा नहीं पाए हैं. हार के बहाने तलाश रहे हैं तो जीत के दावे भी कर रहे हैं. आजतक की टीम अमेठी पहुंची जहां उन्होंने जाना कि विकास का क्या है सच, और लोगों कि इस पर क्या राय है? देखें बुलेट रिपोर्टर का ये एपिसोड.

Amethi, which is not only a VVIP Lok Sabha seat in Uttar Pradesh but also in the country. In the world of politics, there is a big difference between the Nehru-Gandhi family's stronghold and the picture on the ground of Amethi. In the Congress rule of many decades, Amethi awaited for development, then the situation has not changed much even under BJP rule. After Sanjay Gandhi, Rajiv Gandhi, Sonia Gandhi, Amethi gave full support to Rahul Gandhi. What does the public say over the development of Amethi? Watch this episode of Bullet Reporter.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें