scorecardresearch
 

इकतरफा मुहब्‍बत ने बनाया दिलजला

इकतरफा मुहब्‍बत ने बनाया दिलजला

वो उससे प्यार करता था लेकिन उसकी मुहब्बत इकतरफा थी. वो उससे इज़हार-ए-मुहब्बत भी कर चुका था लेकिन जवाब में उसे ना सुनने को मिला. और जब उसे प्यार में नाकामी मिली तो बन गया दिलजला और इस दिलजले ने अपने ही हाथों अपने प्यार का जनाजा उठाने की साज़िश रच डाली. उसने एक खंज़र उठाया और अपने प्यार पर खंज़र चला दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें