scorecardresearch
 

सुबह-सुबह- साल बदला, कोटा के अस्पताल का हाल बदलेगा?

सुबह-सुबह- साल बदला, कोटा के अस्पताल का हाल बदलेगा?

कोटा में बच्चों की मौत पर घिरी राजस्थान सरकार अब डैमेज कंट्रोल कर रही है. आज राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री कोटा जाएंगे. एम्स जोधपुर की टीम भी आज कोटा पहुंचेगी. उम्मीद है कि नए साल में मासूमों को बेहतर इलाज की नई उम्मीद मिलेगी.  आप ये जानकार और परेशान हो जाएंगे कि कोटा में बच्चों की मौत का ये सिलसिला कई बरसों से चल रहा है. 2014  में  15719 बच्चे भर्ती हुए जिसमें 1198 बच्चों को बचाया नहीं जा सका. अगले साल 17579 बच्चे भर्ती हुए 1260 बच्चों की मौत हुई. साल 2018 और 2019 में भी यही सिलसिला चला. सवाल ये है बच्चों की मौत का ये दौर कब तब यूं ही चलता रहेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें