scorecardresearch
 

मैं भाग्य हूं: प्रकृति के नियमों से न करें छेड़छाड़

मैं भाग्य हूं: प्रकृति के नियमों से न करें छेड़छाड़

मैं भाग्य हूं...मुझे लोग तकदीर, किस्मत और भी कई नामों से भी जानते हैं. लेकिन नाम बदलने से मैं नहीं बदलता. वैसे तो ईश्वर ने मुझे हर जीव-जंतु के साथ रहने का आदेश दिया है. लेकिन इंसान के साथ मेरा विशेष संबंध है. क्योंकि इंसान बुद्धि वाला होता है. वह सही या गलत का निर्णय कर सकता है. लेकिन कई बार इंसान अपनी बुद्धि का इस्तेमाल नहीं करता और उसे नुकसान उठाना पड़ता है. पूरी कहानी में सुनिए प्रकृति के नियमों से छेड़छाड़ करना कितना भारी पड़ सकता है...Main Bhagya Hoon: Do not play with the rule of nature, otherwise it will hurt you.

Main Bhagya Hoon: Do not play with the rule of nature, otherwise it will hurt you.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें