scorecardresearch
 

Bengal चुनाव में क्यों बढ़ा मंदिरों को महत्व? जानिए इस रिपोर्ट में

Bengal चुनाव में क्यों बढ़ा मंदिरों को महत्व? जानिए इस रिपोर्ट में

कोलकाता को मंदिरों का शहर कहा जाता. वहीं इस बार विधानसभा चुनाव में मंदिर वाली सियासत हावी है. जय श्रीराम या जय सियाराम, राम या दुर्गा, जय श्रीराम या चंडी पाठी. चुनावों के मद्देनज़र पश्चिम बंगाल में नेताओं की भक्ति के अपने ही रंग हैं. चाहे बीजेपी के तमाम नेता हों या ममता बनर्जी मंदिरों में जाना और धार्मिक आस्था को दिखाना नहीं भूलते. ऐसे में काली घाट मंदिर आस्था के अहम केंद्र के रूप में उभरा है. यह 51 शक्ति पीठ में से एक माना जाता है. इस एपिसोड में जानिए कि बंगाल के विधानसभा चुनावों मंदिरों का क्यो बढ़ा महत्व. देखें वीडियो.

The importance of temples increased in the Bengal elections. Whether it's BJP or TMC leaders they do not forget to go to temples and show religious faith. In such a situation, the Kali Ghat temple has emerged as an important centre of faith It is considered to be one of the 51 Shakti Peeths. Watch video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें