scorecardresearch
 

क्रांतिकारी: तीन तलाक पर बिल नया लेकिन हंगामा पुराना

क्रांतिकारी: तीन तलाक पर बिल नया लेकिन हंगामा पुराना

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मुस्लिम महिलाओं को ट्रिपल तलाक से निजात दिलाने के लिए तीन तलाक बिल को शुक्रवार को लोकसभा के पटल पर रखा. इसके बाद सदन में कांग्रेस सहित विपक्षी दलों ने हंगामा शुरू कर दिया. तीन तलाक बिल का विरोध करते हुए हैदराबाद से सांसद और AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि यह संविधान विरोधी व आर्टिकल 14 और 15 का उल्लंघन है. मोदी सरकार को मुस्लिम महिलाओं से हमदर्दी है तो केरल की हिंदू महिलाओं से मोहब्बत क्यों नहीं? आखिर सबरीमाला पर आपका रुख क्या है?

Union Law Minister Ravi Shankar Prasad today introduced the triple talaq bill seeking to make instant triple talaq a crime punishable under the Indian Penal Code. The introduction of the Muslim Women (Protection of Rights on Marriage) Bill, 2019 by Prasad saw a huge uproar in the Lok Sabha. Opposition members demanded that the Bill should not be introduced before wider consultation involving parties from the other side of the treasury bench. Hyderabad MP Asaduddin Owaisi said in parliament that this bill is anti-constitutional and violates the article 14 and 15.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें