scorecardresearch
 

हल्लाबोल: देशप्रेम बनाम देशद्रोह की बहस का केंद्र बने कैंपस

हल्लाबोल: देशप्रेम बनाम देशद्रोह की बहस का केंद्र बने कैंपस

बीती 22 फरवरी को दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कॉलेज में लगने वाले देशविरोधी नारे के बाद देश के अलग-अलग कैंपसों में गर्माहट बढ़ गई है. इसका संज्ञान लेते हुए राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने भी कैंपस में ऐसे विरोध और बहस को गैरजरूरी बताया है. हल्लाबोल में देखें कि आखिर देश के कैंपस क्यों सुलग रहे हैं और इसे लेकर देश भर के छात्रों का क्या कहना है. साथ ही देखें कि देश की अलग-अलग पार्टियां इसे कैसे देखते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें