scorecardresearch
 

Lakhimpur Case में बेटे की गिरफ्तारी के बाद मंत्री पिता की कुर्सी का क्या होगा? देखें दस्तक

Lakhimpur Case में बेटे की गिरफ्तारी के बाद मंत्री पिता की कुर्सी का क्या होगा? देखें दस्तक

लखीमपुर केस में अब गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा के मुख्य आरोपी बेटे आशीष मिश्रा को तीन दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया गया है, लेकिन राजनीतिक गलियारे में चर्चा बेटे से ज्यादा मंत्री पिता की हो रही, जो बेटे की गिरफ्तारी के बाद अब भी सत्ता के झऱोखे में मंत्री पद की ताकत के साथ खड़े हैं. लखीमपुर की अदालत में मंत्री जी के बेटे की पुलिस कस्टडी को लेकर होने वाली सुनवाई से पहले अर्धसैनिक बल फ्लैग मार्च करते हैं. बेटा पुलिस कस्टडी में गया, लेकिन मंत्री पिता की कुर्सी का क्या होगा? क्या गृह राज्य मंत्री को अपने ही गृह जिले में अपने ही घर के चिराग पर लगे आरोपों के कारण कुर्सी गंवानी पड़ेगी? देखें 10 का ये एपिसोड.

In the Lakhimpur case, now the main accused son of Minister of State for Home Ajay Mishra, Ashish Mishra, has been sent to police remand for three days, but the discussion in the political corridor is more about the father than the son, who is still in power after the son's arrest. The Congress on Friday demanded the immediate dismissal of Minister of State for Home Ajay Mishra, arrest of his son Ashish and setting up of a commission of two sitting judges so that farmers killed in Lakhimpur Kheri violence get justice within 30 days. The son went to police custody, but what will happen to the minister's father's chair? Will the Minister of State for Home Affairs lose the chair in his own home district because of the allegations against his son? Watch this episode.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें