scorecardresearch
 

भारतीय संसद के 60 सालों की अनूठी दास्तान

भारतीय संसद के 60 सालों की अनूठी दास्तान

13 मई 1952 को पहली बार संसद में कामकाज शुरू हुआ था. तब से लेकर अब तक इन साठ सालों में संसद ने खुशियों के हजारों मंजर देखे, तो दर्द की काली परछाइयां भी देखी. साठ साल पहले और आज की संसद में जमीन आसमान का फर्क आ गया है. उन दिनों एक से बढ़कर एक विद्वान और दिग्गज संसद पहुंचे थे और बहस ऐसी होती थी कि सुनने और देखने वाले दांतों तले उंगलियां दबा लेते थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें