scorecardresearch
 

दंगल: रेटिंग की उछाल, देश भूलेगा नोटबंदी, GST का भूचाल!

अंतरराष्ट्रीय क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज़ ने– मोदी सरकार के आर्थिक एजेंडे पर सहमति की मुहर लगा ही. तेरह साल बाद, क्रेडिट रेटिंग एजेंसी ने  भारत की रेटिंग में सुधार किया है. मूडीज़ ने भारत की रेटिंग Baa2 से बढ़ा कर Baa3 कर दी है. अब तक भारत क्रेडिट रेटिंग के सबसे निचले पायदान पर था  और आज से नहीं, साल 2004 से इसी पायदान पर था. मूडीज़ की इस रेटिंग के बाद, मोदी सरकार के मंत्रियों के चेहरे खिल गए हैं. सरकार का कहना है कि क्रेडिट रेटिंग एजेंसी ने, अर्थव्यवस्था सही रास्ते पर होने के उसके दावे पर मुहर लगाई है. हाल ही में जीएसटी पर लंबे घमासान और जीडीपी गिरने के अनुमानों के बीच सरकार की आर्थिक नीतियों की जो फजीहत हुई है, मूडीज़ ने उस पर कुछ हद तक मरहम लगाने का काम किया है. हालांकि कांग्रेस ने मूडीज़ के दावे पर भी सवाल उठा दिए हैं. कांग्रेस का कहना है कि मूडी और मोदी की जोड़ी मूड ऑफ द नेशन समझ पाने में फेल हो गए हैं. कांग्रेस के मुताबिक़ – किसानों की आत्महत्याएं, भूख से हो रही मौतें, लगातार बढ़ती महंगाई, नोटबंदी से मचा हाहाकार, बेरोज़गारी – ये सब चीज़ें तय करेंगी देश में अच्छे दिन हैं या नहीं. न कि मूडीज़ जैसी एजेंसियों से ये तय होगा. एजेंसी के मुताबिक, भारत में लगातार हो रहे आर्थिक सुधार – देश के बेहतर भविष्य का संकेत हैं. लेकिन विपक्ष को देश का भविष्य अंधकारमय दिखता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें