scorecardresearch
 

चाल चक्र: क्या होता है ग्रहों का वक्री होना?

चाल चक्र: क्या होता है ग्रहों का वक्री होना?

चाल चक्र में आज आपको बताएंगे. क्या होता है ग्रहों का वक्री होना? ग्रहों की तमाम तरह की स्थितियां होती हैं. इसमें भी ग्रहों की गति के आधार पर मुख्यतः तीन तरह की स्थितियां पायी जाती हैं. ग्रह जब सामान्य गति से भ्रमण करता है तो तो उसको मार्गी कहते हैं, जब तीव्र गति से चलता है तो उसको अतिचारी कहते हैं. जब इसी तीव्रता में वह पीछे की ओर चलने लगता है तो उसको वक्री कहते हैं. वास्तव में ग्रह कभी पीछे या उलटे नहीं चलते , बल्कि उनके उलटे चलने का आभास होता है. वक्री अवस्था में ग्रह अत्यधिक शक्तिशाली हो जाते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें