scorecardresearch
 

लॉकडाउन का कहर: रोजगार की मार झेलते मजदूर पैदल ही कर रहे हैं पलायन

लॉकडाउन का कहर: रोजगार की मार झेलते मजदूर पैदल ही कर रहे हैं पलायन

कोरोना वायरस का कहर पूरे देश में फैला हुआ है. 14 अप्रैल तक लॉकडाउन की वजह से कई मजदूर परेशान है. अपने गांव से निकल कर दिल्ली, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद, फरीदाबाद जैसे कई औद्योगिक नगरों में अपने परिवार का लालन पालन के लिए निकले मजदूर उस वक्त अवाक रह गए जब उन्होंने यह सुना की पूरा देश लॉकडाउन हो गया. लॉकडाउन का जब मतलब उनकी समझ में आया तो दिहाड़ी मजदूर अपने गांव का सोचने लगे. ट्रेन बंद, बस बंद होने के कारण मजदूर पैदल ही अपने घर की और निकल गए. नेशनल हाइवे 24 में भी यही नजारा देखने को मिला. कोरोना वायरस के संक्रमण के खौफ के बीच शहर से हजारों मजदूर घरों की और पलायन करने को मजबूर है. लॉकडाउन की वजह से फैक्ट्रियां बंद हो गई है और मजदूरों के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है. देखिए 100 शहर 100 खबरें.

Thousands of migrant workers and daily wage workers crossed over to Uttar Pradesh on Friday and many others waited to do so, desperate to return to their distant villages even if it meant walking the entire way home. Carrying their children, bags and any other belongings they could manage to bundle up, they walked in a steady flow of thousands from the National Capital Region to their homes in Uttar Pradesh and beyond.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें