scorecardresearch
 

जतन हजार करो फिर भी बच निकलता है: साहित्य आजतक में अकील नोमानी

जतन हजार करो फिर भी बच निकलता है, हरेक दर्द कहां आंसुओं में ढलता है. बिछड़ने वाले किसी दिन ये देखने आ जा, चिराग कैसे हवा के बगैर जलता है. ये वहम मुझको किसी रोज मार डालेगा, कि एक शख्स मेरे साथसाथ चलता है....सुनिए साहित्य आजतक के मंच पर अकील नोमानी की शायरी

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें