scorecardresearch
 

हंसराज हंस की रुहानी आवाज से जब झूम उठा था साहित्य आजतक का मंच

हंस राज हंस की रुहानी आवाज में एक रुहानियत के साथ ही पंजाब के माटी की खूशबू भी है. हाल में आयोजित साहित्य आजतक के मंच पर उन्होंने लोक संगीत का बेहद मधुर राग छेड़ा था..इसमें 'आजा वे माही तेरा रास्ता ओ देख रिया...' और 'नित खैर मंग्या' जैसे गीत शामिल थे. आप भी सुनें...

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें