scorecardresearch
 

साहित्य आजतक: 'लव, लस्ट एंड लाइफ इन इंग्लिश' से जुड़ीं 10 हकीकत

साहित्य आजतक के मंच पर  'लव, लस्ट एंड लाइफ इन इंगलिश सेशन' में लेखकों ने अपनी राय दी, जानें क्या खास रहा इस सेशन में...

लव, लस्ट एंड लाइफ इन इंगलिश सेशन की खास बातें लव, लस्ट एंड लाइफ इन इंगलिश सेशन की खास बातें

आज तक साहित्य के महामंच पर इंडिया टुडे ग्रुप की मैनेजिंग डायरेक्टर कली पुरी भारत में अंग्रेजी के पॉपुलर लेखकों से मुखातिब थीं. इस सत्र 'लव, लस्ट एंड लाइफ इन इंगलिश' में उन्होंने अनुजा चौहान, रविंदर सिंह और श्रीमोई कुंडु से कई मुद्दों पर बात की. आप भी जानें कि आखिर इस सत्र की क्या हाईलाइट्स रहे...

1. लेखक अपनी मातृभाषा में सोचने में सहज होते हैं और वे उन्हीं भाषाओं में लिखने में भी खुद को सहज पाते हैं.

2. रविंदर कहते हैं कि वे एक पूरा पैराग्राफ हिन्दी में लिखने के बजाय अंग्रेजी में लिखना ज्यादा पसंद करेंगे.

3. श्रीमोई कहती हैं कि कई बार उनके लिखे गए शब्दों से प्रकाशकों को दिक्कत होने लगती है. लोग फेसबुक जैसे सामाजिक माध्यमों पर गालीगलौज करने लगते हैं.

4. अनुजा कहती हैं कि जो बातें अंग्रेजी में बर्दाश्त कर ली जाती हैं. उसका ट्रांसलेशन कई बार हिन्दी में कुछ और ही हो जाता है.

5. रविंदर कहते हैं कि वे हिंग्लिश में बोलने और लिखने में खुद को सहज पाते हैं.

6. आई लव यू भाषा के इतर भी समझ लिया जाता है. वहां भाव प्रधान होते हैं.

7. श्रीमोई कहती हैं कि हम दोहरे मापदंड वाले लोग हैं. देश भर में इतने बलात्कार होते हैं लेकिन हम सेक्स जैसी गूढ़ बातों को निषिद्ध बना देते हैं.

8. श्रीमोई कहती हैं कि लिखने के लिए चाहे कितना ही कुछ लिखा जाए लेकिन कई मसलों में हमें न्यायालय और पुलिस का सहयोग नहीं मिलता.

9. अनुजा कहती हैं कि हम दोहरे मापदंड वाले लोग हैं. सबसे अधिक पॉर्न देखते हैं लेकिन उसे स्वीकारते नहीं हैं.

10. रविंदर कहते हैं कि खुले में हम जिन बातों की भर्त्सना करते हैं. निजी तौर पर उन्हीं चीजों को करते रहते हैं. ऐसा नहीं है कि यह सिर्फ छोटे शहरों में ही है. यह सबकुछ छोटे शहरों में भी चल रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें