scorecardresearch
 

मुनव्वर राना की किताब 'शहदाबा' को साहित्य अकादमी अवॉर्ड, पढ़ें इस किताब की ग़ज़लें-नज़्में

मुनव्वर राना को उनकी किताब 'शहदाबा' के लिए 2014 का उर्दू साहित्य अकादमी पुरस्कार मिलना तय हो गया है. हमारे पाठक विजेंद्र शर्मा ने हमें इस किताब के बारे में लिख भेजा है.

Shahdaba Shahdaba

जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है
मां दुआ करती हुई ख़्वाब में आ जाती है

ऐ अंधेरे देख तेरा मुंह काला हो गया
मां ने आंखें खोल दीं, घर में उजाला हो गया

रो रहे थे सब तो मैं भी फूटकर रो पड़ा
वरना मुझे बेटी की रुखसती अच्छी लगी

ये वे शेर हैं, जिनकी बुनियाद मजबूत हैं. इनकी मन:स्थिति पर सोचते हुए आप घंटों बिता सकते हैं. ये और ऐसे हजारों अशआर रायबरेली, लखनऊ और कोलकाता जैसे मिजाजी शहरों से तआल्लुक रखने वाले मुनव्वर राना की कलम से निकले हैं. शायरी के चाहने वालों के लिए खुशखबरी ये है कि मुनव्वर को उनकी किताब 'शहदाबा' के लिए 2014 का उर्दू साहित्य अकादमी पुरस्कार मिलना तय हो गया है.  हमारे पाठक विजेंद्र शर्मा ने हमें इस किताब के बारे में लिख भेजा है. पढ़िए:

"हिंदुस्तान में ऐसे करोड़ों लोग है जिन्हें उर्दू रस्मुल ख़त तो नहीं आता मगर वे उर्दू ज़ुबान से मुहब्बत करते है. शाइरी और उर्दू के ऐसे ही शैदाइयों के लिए वाणी प्रकाशन हरदिल अज़ीज़ शाइर मुनव्वर राना का मज्मूआ-ए-क़लाम 'शहदाबा' प्रकाशित किया है . अदब की दुनिया में लोग मुनव्वर को उनकी बेहतरीन शाइरी और शानदार नस्र निगारी (गद्य ) के लिए जानते है मगर वे नज़्में भी उसी मेयार की लिखते है, इसका इल्म 'शहदाबा' को पढ़कर हो जाता है .

मेरी हथेलियों में उस दिन नसीब वाली लक़ीर कुछ ज़ियादा ही इतरा रही थी जिस दिन ये ख़ूबसूरत किताब मेरे हाथ में आई. किताब का नाम, 'शहदाबा'. मुझे बड़ा अजीब लगा. मैंने फौरन बाबा (मुनव्वर साहब) को फोन लगाया और पूछा कि बाबा इस लफ्ज़ के मानी क्या हैं ? उन्होंने अपनी खनकती हुई बुलंद आवाज़ में कहा कि जिस तरह दो दरिया के बीच के इलाके को दोआबा कहा जाता है, उसी तरह शहद के छत्ते जहां होते है वहां हम किसी को अगर मिलने का वक़्त देते है तो कहते है कि शहदाबे पर आ जाना. बस उनका इतना कहना था कि किताब का पूरा सार मेरे सामने खुल गया.

'शहदाबा' में तकरीबन 30 ग़ज़लें, 40 नज़्में, एक गीत और कुछ ऐसी कतरनें भी है जो लिबास का हिस्सा नहीं बन सकीं, ऐसा मुनव्वर साहब कहते हैं. किताब की पहली ग़ज़ल ही मुनव्वर साहब के उस फ़न का दीदार करवाती है जिसे ख़ुदा हर शाइर को अता नहीं करता और वो फ़न है, ज़िंदगी के किसी भी पहलू से शे’र निकाल लेना,

आंखों को इन्तिज़ार की भट्टी पे रख दिया
मैंने दिए को आंधी की मर्ज़ी पे रख दिया
अहबाब का सुलूक भी कितना अजीब था
नहला धुला के मिट्टी को मिट्टी पे रख दिया

वक़्त-ए-जुदाई पर हर जुदा होने वाला इसके अलावा और क्या कह सकता है,

रुख़सत का वक़्त है, यूं ही चेहरा खिला रहे
मैं टूट जाऊंगा जो ज़रा भी उतर गया

सच बोलने में क्या नफ़ा–नुक्सान है इस बात को बहुत से शाइरों ने कहा है, मगर अंदाज़-ए-मुनव्वर सबसे जुदा है

सच बोलने में नशा कई बोतलों का था
बस यह हुआ कि मेरा गला भी उतर गया

पिछले दिनों कानपुर में कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल साहब के जन्मदिन पर एक कवि सम्मलेन-मुशायरा था उसमें उन्होंने एक विवादास्पद बयान पुरानी बीवियों को लेकर दे दिया और सियासत ने उस मज़ाक में से भी सियासत निकाल ली. उस मुशायरे में मुनव्वर साहब भी थे, काश जायसवाल साहब ने मुनव्वर साहब का ये शे’र पहले पढ़ लिया होता.

सोना तो यार सोना है चाहे जहां रहे
बीवी है फिर भी बीवी, पुरानी ही क्यों न हो

जिस शख्स ने अपनी ज़िंदगी में ग़म से लेकर मसर्रत तक के तमाम रंग देखें हों और हर पल को ज़िंदादिली के साथ जिया हो वही इस तरह की शाइरी कर सकता है, जैसी मुनव्वर राना करते हैं.

ऐसा लगता है कि कर देगा अब आज़ाद मुझे
मेरी मर्ज़ी से उड़ाने लगा है सैयाद मुझे
एक क़िस्से की तरह वह तो मुझे भूल गया
इक कहानी की तरह वह है याद मुझे

मुनव्वर राना की शाइरी ज़्यादातर आम आदमी के रोज़मर्रा के मसाइल ,घर–आंगन, रिश्तों के टूटते–संवरते ताने बाने के इर्द-गिर्द रहती है. मगर जब बात रूमान की आती है तो मुनव्वर साहब ने ऐसे–ऐसे शे’र कहे हैं की रूमानियत ख़ुद शर्मिंदा हो जाती है.

मेरी हथेली पे होंठों से ऐसी मोहर लगा
कि उम्र भर के लिए मैं भी सुर्ख रू हो जाऊं

'शहदाबा' हाथ में आते ही ज़ेहन पे ऐसा नशा तारी होता है कि फिर आंखें आराम नहीं करना चाहती. दिल करता है कि इसे एक साथ पढ़ डालें और फिर ऐसे शे’र बीच में आ जाते है जिन पर आंखों को बहुत देर ठहरना भी पड़ जाता है. ऐसी ही एक ग़ज़ल ये है.

अच्छी से अच्छी आबो हवा के बग़ैर भी
ज़िंदा हैं कितने लोग दवा के बग़ैर भी

सांसों का कारोबार बदन की ज़रूरतें
सब कुछ तो चल रहा है दुआ के बग़ैर भी

बरसों से इस मकान में रहते हैं चंद लोग
इक दूसरे के साथ वफ़ा के बग़ैर भी

हम बेकुसूर लोग भी दिलचस्प लोग हैं
शर्मिन्दा हो रहे हैं ख़ता के बग़ैर भी

ज़ियादातर शाइर अपनी ग़ज़लों में रिवायती से नज़र आने वाले क़ाफ़ियों का इस्तेमाल करते हैं, मगर मुनव्वर राना अपनी ग़ज़ल में ऐसे-ऐसे काफ़िये टांकते है कि उसके बाद सिर्फ ज़ुबान से यही निकलता है कि मुनव्वर साहब ऐसे क़ाफ़िये लाते कहां से हैं.

दुनिया सुलूक़ करती है हलवाई की तरह
तुम भी उतारे जाओगे मलाई की तरह

मां–बाप मुफलिसों की तरह देखते हैं बस
क़द बेटियों के बढ़ते हैं महंगाई की तरह

हमसे हमारी पिछली कहानी न पूछिए
हम ख़ुद उधड़ने लगते हैं तुरपाई की तरह

'शहदाबा' में मुझे वो ग़ज़ल भी नज़र आई जिसका मतला दो साल पहले मुनव्वर साहब से फोन पर सुना था और मैंने बीएसएफ और पाकिस्तान रेंजर्स की अमृतसर में हुई शिखर वार्ता की निज़ामत करते हुए शहरे अमृतसर की शान में सुनाया था,

ये दरवेशों की बस्ती है यहां ऐसा नहीं होगा
लिबासे ज़िंदगी फट जाएगा मैला नहीं होगा

मुनव्वर साहब की शाइरी हो और उसमें ज़िंदगी के फ़लसफ़ों की तस्वीर छुपी रह जाए ऐसा हो ही नहीं सकता.

फिर हवा सिर्फ़ चराग़ों का कहा करती है
जब दवा कुछ नहीं करती तो दुआ करती है

कोशिशें करती चली आई है दुनिया लेकिन
उम्र वह पूंजी है जो रोज़ घटा करती है

शाइरी में आंखों पे बहुत से शे’र कहे गए है मगर 'शहदाबा' की कतरन में से ये शे’र किसी भी अधूरे मुहब्बतनामे को पूरा कर सकते हैं. मेरा ये भी दावा है कि जिसकी भी आंखों की शान में मुनव्वर साहब के ये मिसरे इस्तेमाल हो जाएंगे फिर वो आंखें इज़हारे मुहब्बत अपनी आंखों से ही करेंगी.

उसकी आंखें है सितारों में सितारों जैसी
किसी मंदिर में चराग़ों की कतारों जैसी

दुनिया के सबसे मुक़द्दस लफ्ज़ 'मां' को ग़ज़ल में लाने का ख़ूबसूरत इल्ज़ाम अगर किसी पे है तो वो है मुनव्वर राना. 'मां' लफ्ज़ का शाइरी में इस्तेमाल पहले रिवायत के खिलाफ़ माना जाता था मगर मुनव्वर साहब ने रिवायत से बगावत की. इस लफ्ज़ को महबूब से भी बड़ा दर्जा देकर इतने शे’र कहे कि अदब में कहीं भी मां का अगर ज़िक्र होता है तो मुनव्वर राना का नाम बड़े एहतराम के साथ लिया जाता है. 'शहदाबा' की गज़लें और नज़्मों में भी मुनव्वर साहब के मिसरे 'मां' की कदम बोसी करते नज़र आते हैं.

चलती फिरती हुई आंखों से अज़ां देखी है
मैंने जन्नत तो नहीं देखी है मां देखी है

'शहदाबा' में मुनव्वर साहब की एक बिल्कुल ताज़ा ग़ज़ल भी है जिसका मतला उन्होंने नई उम्र की ख़ुदमुख्तारियों को मुख़ातिब हो कहा है और उसका एक शे’र फिर से एक ज़िंदगी की हक़ीक़त बयान करता है .

एक बार फिर से मिट्टी की सूरत करो मुझे
इज़्ज़त के साथ दुनिया से रुख़सत करो मुझे

जन्नत पुकारती है कि मैं हूं तेरे लिए
दुनिया गले पड़ी है कि जन्नत करो मुझे

अब बात 'शहदाबा' की नज़्मों की हो जाए. नज़्म का पैकर ग़ज़ल से बिल्कुल मुख्तलिफ़ है. 'शहदाबा' में पाबंद और आज़ाद दोनों तरह की नज़्में हैं. यूं तो 'शहदाबा' की तमाम नज़्में अपने आप में कई सदियां समेटे हुए हैं मगर कुछ छोटी–छोटी नज़्में इंसानी फितरत ख़ास तौर पर मरदाना फितरत को सोचने पर मजबूर करती हैं. एक नज़्म है 'गुज़ारिश' जिसकी ये पंक्तियां रूह को झिंझोड़ कर रख देती हैं.

जिस्म की बोली लगते समय वह ज़्यादातर ख़ामोश रहती है.. ,लेकिन किसी को अपने होंठ चूमने की इजाज़त नहीं देती... जब कोई उसे मजबूर करता है ...तो वह हाथ जोड़ते हुए ..सिर्फ़ इतना कहती है ...कि ..यह होंठ मैं किसी को दान कर चुकी हूँ ...और बड़े लोग दान की हुई चीजें ..कभी नहीं लेते !...

एक नज़्म है 'एहतिसाबे गुनाह.' उसके ये मिसरे देखें

एक दिन अचानक उसने पूछा...तुम्हें गिनती आती है
मैंने कहा हां..
उसने पूछा पहाड़े
मैंने कहा हां..हां ..
फिर उसने फ़ौरन ही पूछा..हिसाब भी आता होगा ..
मैंने गुरुर से अपनी डिग्रियों के नाम लिए..
उसने कहा बस. बस....
अब मुझसे किये हुए वादों की गिनती बता दो
मैं तुम्हे मुआफ कर दूंगी

ऐसे ही एक नज़्म है 'ओल्ड गोल्ड.' ये नज़्म आज के दौर के हर घर की कहानी सिर्फ़ चार मिसरों में बयान करती है

लायक़ औलादें
अपने बुज़ुर्गों को
ड्राइंगरूम के क़ीमती सामान की तरह रखती हैं
उन्हें पता है कि एंटीक को
छुपा कर नहीं रखा जाता
उन्हें सजाया जाता है

'शहदाबा' में मुनव्वर साहब की कुछ पाबंद नज़्में हैं. बताया जाता है कि इनमें से एक नज़्म तो कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अपने घर में फ्रेम करवाकर लगा रखी है. इसके एक दो बंद आपको पढवाता हूं..

एक बेनाम सी चाहत के लिए आई थी
आप लोगों से मुहब्बत के लिए आई थी
मैं बड़े बूढ़ों की ख़िदमत के लिए आई थी
कौन कहता है हुकूमत के लिए आई थी
अब यह तक़दीर तो बदली भी नहीं जा सकती
मैं वह बेवा हूं जो इटली भी नहीं जा सकती
मैं दुल्हन बन के भी आई इसी दरवाज़े से
मेरी अर्थी भी उठेगी इसी दरवाज़े से

इशारों–इशारों में मुनव्वर साहब किस तरह सोनिया गांधी के मन की बात को अपनी नज़्म में कह जाते है.

आप लोगों का भरोसा है ज़मानत मेरी
धुंधला-धुंधला सा वह चेहरा है ज़मानत मेरी
आपके घर की ये चिड़िया है ज़मानत मेरी
आपके भाई का बेटा है ज़मानत मेरी
है अगर दिल में किसी के कोई शक निकलेगा
जिस्म से खून नहीं सिर्फ नमक निकलेगा

'शहदाबा' में मुनव्वर साहब की एक और ख़ूबसूरत नज़्म है जो उन्होंने 'सिन्धु दर्शन' महोत्सव के लिए लिखी थी. बात नब्बे के दशक के आख़िरी साल की है जब मुनव्वर साहब को लाल कृष्ण आडवाणी ने लद्दाख में सिन्धु दर्शन कार्यक्रम का न्योता दिया. मुनव्वर साहब सिन्धु नदी पर नज़्म लिखने के लिए अपनी फ़िक्र को बार–बार तकलीफ़ दे रहे थे मगर उनकी पसंद का मिसरा ज़ेहन में नहीं आ रहा था . अचानक उनकी 5 - 6 बरस की बेटी ने कहा अब्बू क्या कर रहे हो, उन्होंने कहा की बेटे कविता लिख रहा हूं. मुनव्वर साहब ने सिन्धु –दर्शन का निमन्त्रण बच्ची को दिखाया . बच्ची ने पहाड़ों और नदी की तस्वीर देख कर सवाल पूछा कि ये नदी कहां से कहां तक जाती है ? बस मुनव्वर साहब को अपनी नज़्म का मिसरा मिल गया. उन्होंने उस वक़्त बच्ची से कहा कि बेटे ये नदी कहां से आती है, कहां जाती है इसमें हमारा कोई रोल नहीं है, ये हमारी पैदाइश से पहले की है. मगर बाद में मुनव्वर साहब ने सोचा कि एक बाप, एक दोस्त और एक टीचर की हैसियत से बच्ची को अब ये समझाना चाहिए कि सिन्धु नदी का हिन्दुस्तान के लिए क्या महत्व है और फिर वो शानदार नज़्म उन्होंने अपनी बेटी को समर्पित की. उसी ख़ूबसूरत नज़्म के एक–दो बंद

सिन्धु सदियों से हमारे देश की पहचान है
यह नदी गुज़रे जहां से समझो हिन्दुस्तान है
चांद तारे पूछते हैं रात भर बस्ती का हाल
दिन में सूरज ले के आ जाता है इक सोने का थाल
ख़ुद हिमालय कर रहा है इस नदी की देख भाल
अपने हाथों से ओढ़ाया है इसे कुदरत ने शाल
इस नदी को देश की हर इक कहानी याद है
इसको बचपन याद है इसको जवानी याद है
यह कहीं लिखती नहीं है मुंह ज़बानी याद है
ऐ सियासत तेरी हर इक मेहरबानी याद है
अब नदी से कौन बतलाये ये पाकिस्तान है
यह नदी गुज़रे जहां से समझो हिन्दुस्तान है

जब सिन्धु दर्शन महोत्सव में मुनव्वर साहब ने ये नज़्म सुनाई तो तत्कालीन उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण अडवानी ने इन्हें गले लगा लिया. 'शहदाबा' मुनव्वर साहब की बाकी सब किताबों से अलहदा है क्यूंकि हिंदी में उनकी ये पहली किताब है जिसमें उनकी ग़ज़लों के साथ पाठकों को नज़्मों का भी लुत्फ़ मिलता है. 'शहदाबा' की ग़ज़लें और नज़्में शाइरी के एक नए चेहरे को हमारे मुख़ातिब खड़ा कर देती हैं.

आख़िर में 'शहदाबा' की इसी कतरन के साथ आपसे इजाज़त कि ईश्वर मुनव्वर साहब की उम्र दराज़ करे और उन्हें कभी ये ना कहना पड़े...

हमसे मुहब्बत करने वाले रोते ही रह जाएंगे
हम जो किसी दिन सोये तो फिर सोते ही रह जाएंगे

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें