scorecardresearch
 

e-Sahitya Aaj Tak 2020: गजल गायक गुलाम अली की खोज हैं जावेद अली, बताया कैसे बने उनके शागिर्द

e-Sahitya Aaj Tak 2020: जावेद अली ने बताया कि वे गजल गायक गुलाम अली साहब के बड़े फैन हैं. उन्होंने अपने सिंगिंग करियर की शुरुआत उनकी गायिकी सुनकर ही की. जावेद ने वो किस्सा भी बताया जब उनकी पहली बार गुलाम अली से मुलाकात हुई.

e-Sahitya Aaj Tak 2020: जावेद अली e-Sahitya Aaj Tak 2020: जावेद अली

बॉलीवुड के मशहूर प्लेबैक सिंगर जावेद अली e-साहित्य आजतक कार्यक्रम से जुड़े. उनके सेशन को मीनाक्षी कंडवाल ने मोडरेट किया. जावेद अली ने इस दौरान अपने सिंगिंग सफर के बारे में बताया. जावेद अली ने वो किस्सा भी बताया जब वे पहली बार गजल गायक गुलाम अली से मिले.

कैसे हुई थी गुलाम अली से पहली मुलाकात?
जावेद अली ने कहा- मैंने सिंगिंग गुलाम अली साहब को सुनकर शुरू की. उनके गानों में कुछ कशिश थी. मेरा पूरा परिवार उनका फैन रहा है. मैं अपने पिता के सामने गाना गुनगुनाने से डरता था. एक बार मेरी मां ने मेरे पिता को मेरा गाना सुनवाया. तब मैंने पिता को गुलाम अली साहब की गजल सुनाई. तब मेरी उम्र 10-11 साल थी. मेरे पिता को लगा मुझमें कुछ बात तो है. फिर पिता ने मुझे म्यूजिक की ट्रेनिंग दी, मैंने दूसरे लोगों से भी म्यूजिक सीखा.

12वीं क्लास में माशूका ने ठुकराया, फिर मनोज मुंतशिर ने लिखी थी ये नज्म

''मैं दिल्ली गुलाम अली साहब से पहली बार मिला. गुलाम अली से मिलने की बात सुन मैं काफी खुश हुआ था. पहली मुलाकात में मैं गुलाम अली को देखते रह गया. मैंने उन्हें अपना गाना सुनाया. मेरे पिता ने उनसे कहा कि मैं अपने बेटे को आपका शागिर्द बनाना चाहता हूं. ऐसा हुआ भी. जब भी गुलाम अली पाकिस्तान से दिल्ली आते थे मैं उनके शोज में जाया करता था.''

गरीब मजदूरों के लिए 'देवता' बने सोनू सूद, फैन हुआ सोशल मीडिया

लॉकडाउन के बाद क्या करेंगे सबसे पहले?
जावेद बोले- लॉकडाउन खुलने के बाद मैं सबसे पहले अपनी मां से मिलूंगा. वे दिल्ली में हैं. मैं अपने भाईयों से भी मिलूंगा. प्रोफेशनली तौर पर कहूं तो लाइव परफॉर्मेंस करना चाहता हूं जहां मैं अपनी 2 महीने की भड़ास निकाल पाऊं. मैं फैंस के लिए ऐसी परफॉर्मेंस लेकर आना चाहता हूं, जो उन्होंने कभी ना देखी हो.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें