scorecardresearch
 

गर्भावस्था में मछली खाना मां और बच्चे दोनों के लिए है फायदेमंद

मछली खाने से होने वाली संतान को सांस से जुड़ी समस्याएं होने का खतरा कम हो जाता है. इसके अलावा मां द्वारा गर्भावस्था में मछली खाने से अस्थमा होने का खतरा भी कम हो जाता है.

गर्भावस्था में मछली खाने के फायदे गर्भावस्था में मछली खाने के फायदे

गर्भावस्था में मछली खाना मां और बच्चे दोनों के ही लिए फायदेमंद होता है. गर्भावस्था में महिला को साल्मन, ट्राउट, ट्यूना मछलियों का सेवन करना चाहिए. ये मछलियां खासतौर पर फायदेमंद होती हैं.

गर्भावस्था में मछली खाने से होने वाली संतान को सांस से जुड़ी समस्याएं होने का खतरा कम हो जाता है. इसके अलावा मां द्वारा गर्भावस्था में मछली खाने से अस्थमा होने का खतरा भी कम हो जाता है.

हाल में हुए एक शोध के मुताबिक, मछली के ऊतकों और पेट के आसपास तेल होता है. मछली की फिलेट्स में 30 प्रतिशत तक तेल होता है. हालांकि ये आंकड़े मछली की प्रजाति पर निर्भर करते हैं.

शोध के प्रारंभिक नतीजों में पाया गया है कि साल्मन मछली खाने वाली महिलाओं और नहीं खाने वाली महिलाओं के बच्चों में कुछ सालों के बाद अंतर नजर आने लगता है. मछली खाने वाली महिलाओं की संतानों में मछली नहीं खाने वाली महिलाओं की तुलना में अस्थमा की आशंका भी कम नजर आई.

ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ साउथहैंप्टन के प्रोफेसर फिलिप काल्डर के अनुसार, ये संकेत बताते हैं कि पोषण से जुड़ी आदतों का बच्चों के स्वास्थ्य पर लंबे समय तक असर बना रहता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें