scorecardresearch
 

फेफड़े की बीमारी से छुटकारा दिला सकता है मधुमक्खी का जहर

जानिए, कैसे मधुमक्खी और ततैया का जहर फेफड़े की बीमारी के लिए होेगा लाभकारी.

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो

जहर मानव शरीर के लिए ठीक नहीं है, इसका सेवन करने से मनुष्य अपने जीवन से भी हाथ धो बैठ सकते हैं. वहीं एक रिसर्च में सामने आया है कि कैसे जहर मनुष्य की बीमारी के लिए लाभदायक हो सकता है. जी हां रिसर्च में सामने आया है कि कैसे ततैया और मधुमक्खी का जहर फेफड़े की बीमारी के लिए लाभकारी होगा. जानते हैं क्या कहती है रिसर्च....

एमआईटी के इंजीनियरों ने नया एंटीमाइक्रोबियल पेप्टाइड्स (सूक्ष्मजीवीरोधी अम्लों की छोटी श्रंखला) विकसित किया है, जो श्वसन और अन्य संक्रमण को फैलाने वाले जीवाणुओं पर काबू पा सकता है.

विटामिन-डी की कमी से बुजुर्गों में हो सकता है ये खतरा

इसे एक दक्षिण अमेरिकी ततैया द्वारा स्वाभाविक रूप से उत्पन्न होने वाले पेप्टाइड से तैयार किया गया है. ततैया या मधुमक्खियों जैसे कीटों का जहर उन अवयवों से भरपूर होता है, जो जीवाणुओं को मारते हैं. दुर्भाग्यपूर्ण है कि इसमें से कुछ अवयव लोगों के लिए जहरीले भी होते हैं, जिस वजह से इसका एंटीबायोटिक दवाइयों के रूप में इस्तेमाल करना असंभव हो जाता है.

चूहों पर हालांकि किए गए अध्ययन में, समूह ने सामान्यत: दक्षिण अमेरिकी ततैया में पाए जाने वाले जहर पर पुन: अध्ययन किया. समूह ने पेप्टाइड के ऐसे दूसरे प्रकार बनाने की कोशिश की, जो जीवाणुओं के संक्रमण रोके और मानव कोशिकाओं के लिए जहरीला न हो.

उन्होंने पाया कि सबसे मजबूत पेप्टाइड जीवाणु के एक प्रकार(स्यूडोमोनास एरूगिनोसा) को पूरी तरह समाप्त कर सकता है, जिससे श्वसन, मूत्र पथ संक्रमण जैसी समस्याएं उत्पन्न होती हैं.

स्तन कैंसर से पीड़ित महिलाओं के लिए गर्भावस्था कितनी सुरक्षित?

एमआईटी में एक अध्ययनकर्ता सीजर डी ला फ्यूंटे-नूनेज ने कहा, "इन पेप्टाइड की संरचना और कार्यप्रणाली का प्रणालीगत तरीके से अध्ययन करने के बाद, हम उनकी गतिविधि और गुणों का खुद के अनुकूल बनाने में सक्षम हैं.

समूह ने पेप्टाइड को जीवाणुओं के सात स्टैन (उपभेदों), कवकों में प्रयोग किया. पेप्टाइड के जहर की जांच के लिए अध्ययनकर्ताओं ने इसे प्रयोगशाला में निर्मित मानव किडनी कोशिकाओं में डाला और पाया कि कई पेप्टाइड संक्रमण को कम कर सकते हैं और इसे पूरी तरह समाप्त कर सकते हैं.  फ्यूंटे-नूनेज ने कहा, "चार दिन बाद हमने देखा कि मिश्रण ने पूरी तरह से संक्रमण को समाप्त कर दिया है.  

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें