scorecardresearch
 

ईद की दावत में नहीं खाए ये 5 पकवान, तो अधूरा है आपका त्योहार

ईद-उल-फितर में कई डिश भी बनाई जाती हैं जिनका स्वाद एक बार जुबान पर चढ़ जाए तो सालों-साल नहीं उतरता.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

ईद पर दोस्तों की शानदार दावत में अक्सर सेवाइयां या शीर खुरमा ही परोसा जाता है. जबकि ईद-उल-फितर में कई डिश भी बनाई जाती हैं जिनका स्वाद एक बार जुबान पर चढ़ जाए तो सालों-साल नहीं उतरता. अगर इस ईद पर आपने इन 5 व्यंजनों का जायका नहीं लिया तो समझ लीजिए आपका त्योहार अधूरा रह गया.

शीरमाल-

शीरमाल मैदे, घी और शक्कर से बनी मीठी रोटी को कहते हैं. शीर का मतलब होता है दूध. बाजार में पहले से तैयार मिलने वाले शीरमाल को गोश्त के साथ भी खाया जाता है. इसका स्वाद बटर में तले पाव जैसा होता है.

बाकरखानी-

ईद पर बनने वाली डिशेज में बाकरखानी भी काफी स्पेशल है. यह मैदे, सूखे मेवे और मावे की बनती है. तंदूर या ओवन में सिकी बाकरखानी को सूखे मेवे, किशमिशस और काजू के साथ परोसा जाता है. इसे दूध के साथ भी खाया जाता है.

अंगूरदाना-

अंगूरदाना उड़द की दाल से बनने वाली मोटी बूंदी है. यह मीठी होती है. इसे दूसरे सभी व्यंजनों के साथ परोसा जाता है.

दूध फेनी-

ईद पर सिवइयां और फेनी अच्छे-अच्छों के मुंह में पानी ला देती है. सिवइयों और फेनी में बुनियादी फर्क यह है कि फेनी तार के गुच्छे की तरह होती है. इसे बनाने में ज्यादा मेहनत लगती है. इसे घी में तला जाता है. यह रंगीन भी मिलती है.

मीठी सिवइयां-

मीठी ईद पर सिवइयां लगभग सभी मुस्लिम परिवारों में बनाई जाती है. मैदे से बनी सिवइयां को दूध में बनाया जाता है. इसमें कई तरह के ड्राई फ्रूट्स भी डाले जाते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें