scorecardresearch
 

Type 2 diabetes: डायबिटीज से बचाएंगे ये 7 कमाल के तरीके, जरूर करें फॉलो

पिछले दो साल में डायबिटीज के मामले तेजी से बढ़े हैं और आने वाले कुछ सालों में इस संख्या में और बढ़ोतरी आने की संभावना जताई जा रही है. इसके पीछे लोगों की खराब लाइफस्टाइल और बढ़ता मोटापा मुख्य वजह बताई जा रही है. हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार कुछ तरीके अपनाकर इस बीमारी को बढ़ने से रोका जा सकता है. ये कारगर तरीके टाइप 2 डायबिटीज और मोटापा कंट्रोल करने में बहुत कारगर माने जाते हैं.

डायबिटीज से बचाने वाले तरीके डायबिटीज से बचाने वाले तरीके
स्टोरी हाइलाइट्स
  • डायबिटीज से करें बचाव
  • एक्सपर्ट्स से जानें कमाल के उपाय
  • सेहत के लिए खतरनाक डायबिटीज

पिछले दो साल में डायबिटीज के मामले तेजी से बढ़े हैं और आने वाले कुछ सालों में इस संख्या में और बढ़ोतरी आने की संभावना जताई जा रही है. इसके पीछे लोगों का खराब लाइफस्टाइल और बढ़ता मोटापा मुख्य वजह बताई जा रही है. हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार कुछ तरीके अपनाकर इस बीमारी को बढ़ने से रोका जा सकता है. ये कारगर तरीके टाइप 2 डायबिटीज और मोटापा कंट्रोल करने में बहुत कारगर माने जाते हैं.

जबरदस्ती खाना ना खाएं- आप जब भी कुछ खाएं तो अपने आप से ये सवाल जरूर पूछें कि क्या आप वास्तव में भूखे हैं? या फिर आप सिर्फ इसलिए खा रहे है क्योंकि आप थके हुए, उदास, अकेले और बोर हो रहे हैं. या फिर आप किसी के साथ में हैं और खाने में सिर्फ उसका साथ देने के लिए खा रहे हैं. याद रखें कि आपको कुछ भी तभी खाना है जब आपको सच में भूख महसूस हो. भले ही आपका कितना भी पसंदीदा खाना आपके सामने आ जाए. अगर आपको भूख नहीं हो तो बिल्कुल भी ना खाएं.

शराब से दूरी-  स्टडीज के मुताबिक शराब  भूख बढ़ाने वाले हार्मोन, घ्रेलिन को बनाता है. इसका असर दिमाग के न्यूरोट्रांसमीटर पर भी पड़ता है और इसकी वजह से लोगों का अपने विचारों, व्यवहार और भावनाओं पर कंट्रोल नहीं रह जाता है. इसके असर से लोगों में खुद से निर्णय लेने की क्षमता खत्म होने लगती है और आत्म-नियंत्रण और इच्छाशक्ति में कमी आने लगती है.

कैलोरी पर दें ध्यान- कुछ भी खाने से पहले ध्यान दें कि आपके फूड में कैलोरी की मात्रा कितनी है. इसके बाद कैलोरी के हिसाब से पहले ही अपना वर्कआउट प्लान कर लें. इसके बाद आप इसे खा सकते हैं. जैसे कि अगर आपके 250 कैलोरी वाली कोई चॉकलेट खानी है तो इसे खाने से पहले आपको 42 बार सीढ़ियां चढ़नी होंगी. इससे आपको सोचने का मौका मिलता है कि जो आप खाने जा रहे हैं वो सेहत के लिए सही है या नहीं. 

खाने से पहले पानी पिएं- हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार खाना खाने से पहले एक-दो गिलास पानी पीना चाहिए. ऐसा करने से पेट भर जाता है और भूख थोड़ी कम लगती है. पानी पीने से शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद मिलती है. इससे आप ज्यादा कैलोरी भी बर्न करते हैं. वेट लॉस के साथ ये स्किन को भी हेल्दी बनाता है.

जंक फूड से दूरी- प्रोसेस्ड फूड में रिफाइंड कार्ब्स ज्यादा होते हैं और कैलोरी बिल्कुल भी नहीं होती है. कम मात्रा में प्रोसेस्ड फूड खाने से आपके शरीर में रिफाइंड कार्ब्स की मात्रा कम पहुंचती है. कुछ भी खाने के बाद बैठे ना रहें क्योंकि इससे कैलोरी बर्न नहीं हो पाती है. खाने के बाद जितना हो सके उतना चलने की कोशिश करें.

मूड ठीक रखें- डिप्रेशन की वजह से लोगों में मोटापा तेजी से बढ़ता है. स्टडीज में पाया गया है कि डिप्रेशन ही नहीं बल्कि थोड़ा-बहुत मूड खराब होने पर भी लोगों में अक्सर हाई कार्ब वाले फूड खाने की इच्छा होती है. इसलिए अगर आपको अपना मूड सही नहीं लगता है तो इसे ठीक करने के लिए कुछ सेहतमंद विकल्प अपनाएं. अगर आपको लगता है कि आपको डिप्रेशन है तो मेडिकल हेल्प जरूर लें.

तनाव पर काबू रखें- रिसर्च में पाया गया है कि स्ट्रेस हार्मोन, कोर्टिसोल न केवल आपके मेटाबॉलिज्म को धीमा करता है बल्कि इससे ज्यादा मीठ और नमक खाने की इच्छा भी बढ़ती है. ये पेट और आंत में वसा की मात्रा बढ़ाता है जिसकी वजह से  टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावना बढ़ जाती है.

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×