scorecardresearch
 

Omicron: इन जगहों पर सबसे तेजी से फैल रहा वायरस, घर से निकलने वाले हो जाएं सावधान

देश में कोरोना के एक्टिव केसों की संख्या 7 लाख के ऊपर पहुंच गई है. ऐसे में कोरोना वैरिएंट के अलावा डेल्टाक्रॉन (Deltacron) की पहचान ने मुश्किलें और भी बढ़ा दी हैं. इस वायरस से बचने के लिए सुरक्षित रहने की जरूरत है. वायरस किन जगहों पर अधिक फैलता है और किन लोगों को वायरस की चपेट में आने का जोखिम अधिक होता है, इस बारे में आर्टिकल में जानेंगे.

X
Image credit : Pixabay Image credit : Pixabay
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पिछले 24 घंटे में सामने आए 1.80 लाख मामले
  • बढ़ते हुए मामलों पर एक्सपर्ट ने जताई चिंता
  • तेजी से फैल रहा है वायरस

भारत में रविवार को कोरोना के  करीब 1.80 लाख केस सामने आए हैं. एक्सपर्ट के मुताबिक, देश में कोरोना महामारी की तीसरी लहर शुरू हो चुकी है. भारत में ओमिक्रॉन (Omicron) के 4,033 मामले सामने आ चुके हैं. इससे बचने के लिए तमाम रिसर्च चल ही रही थीं कि इतने में डेल्टा और ओमिक्रॉन वैरिएंट के मिक्स वैरिएंट डेल्टाक्रॉन (Deltacron) की भी पहचान हो चुकी है.

वायरस से बचे रहने के लिए लोगों से सावधानी बरतने, भीड़-भाड़ वाली जगह पर न जाने और हाथ साफ करते रहने की सलाह दी जा रही है. एक्सपर्ट का कहना है कि जनवरी के आखिर में कोरोना के केस चरम पर होंगे.  

यूके की पहली ऑफिशिअल रिपोर्ट के मुताबिक, ओमिक्रॉन से अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम डेल्टा वैरिएंट की तुलना में 50 से 70 प्रतिशत कम है. वहीं हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, वैक्सीन की बूस्टर डोज ओमिक्रॉन से बचाव कर सकती है. 

हाल ही में एक स्टडी हुई, जिसमें बताया गया कि कौन सी जगहों पर वायरस की चपेट में आने का खतरा सबसे अधिक होता है. अगर कोई इन जगहों पर जाता है तो उसके पॉजिटिव आने के चांस बढ़ जाते हैं और जिससे दूसरों में भी यह वायरस फैल सकता है. इस स्टडी का डेटा यूके में ओमिक्रॉन के डोमिनेंट वैरिएंट बनने से पहले लिया गया था और फिर उसकी स्टडी की गई थी.

10 हजार लोग हुए थे स्टडी में शामिल

(Image Credit : Pixabay)

SAGE की इस स्टडी में 10 हजार लोगों की रोजाना की गतिविधियों पर नजर रखी गई थी, जिसमें पाया गया कि जो लोग बाहर खरीददारी (Shopping) करने गए थे, उन लोगों में सबसे अधिक वायरस फैलने का खतरा था. शॉपिंग के बाद, पब और रेस्तरां (Pubs & Restaurants) जाने वाले और उसके बाद सार्वजनिक वाहनों (Public vehicle) का उपयोग करने वालों में सबसे अधिक वायरस फैलने का जोखिम था.

रिसर्च के मुताबिक, सार्वजनिक वाहनों का उपयोग करने वाले और होटल जाने वाले लोगो में पिछले साल सितंबर और नवंबर की अपेक्षा कोविड टेस्ट पॉजिटिव आने की संभावना 1.3 गुना थी. खेल से जुड़ी सोशल एक्टिविटी के साथ-साथ फिजिकल एक्टिविटी के कारण भी वायरस फैलता है जिससे आउटडोर गेम्स में शामिल होने वाले लोगो में में कोविड का 1.36 प्रतिशत अधिक जोखिम था.

स्टडी में यह भी पाया गया कि जिन लोगों को काम के लिए अपना घर छोड़ना पड़ा, उन लोगों में घर से ना निकलने वाले लोगों की तुलना में कोविड होने की संभावना अधिक थी. वहीं रिसर्चर्स अभी सिनेमा हॉल (Cinema hall), म्यूजिक कॉन्सर्ट (Music concert), नाइट क्लब (Night club) या खेल इवेंट (Sports event) में जाने और वायरस के जोखिम का विश्वसनीय डेटा प्रदान करने में सक्षम नहीं थे. 

इन लोगों को है वायरस की चपेट में आने का सबसे अधिक खतरा

(Image Credit : Pixabay)

SAGE की स्टडी के मुताबिक, निम्न एक्टिविटी को करने वाले लोगों को कोविड की चपेट में आने का खतरा अधिक रहता है. 

  • बाहर जाकर शॉपिंग करने वाले लोगों में : 2.18 प्रतिशत
  • आउटडोर गेम्स खेलने वाले लोगों में : 1.36 प्रतिशत
  • बस का उपयोग करने वाले लोगों में : 1.31 प्रतिशत
  • रेस्तरां या कैफे में भोजन करने वाले लोगों में : 1.29 प्रतिशत
  • पब, बार या क्लब में जाने वाले लोगों में : 1.28 प्रतिशत
  • पार्टी में जाने वाले लोगों में : 1.27 प्रतिशत
  • जिम या इनडोर खेलेने जाने वाले लोगों : 1.27 प्रतिशत
  • काम के लिए घर से निकलने वाले लोगों में : 1.2 प्रतिशत
  • टैक्सी का उपयोग करने वालों में : 1.19 प्रतिशत
  • ट्रेन का उपयोग करने वालों में : 1.18 प्रतिशत
  • सप्ताह में एक बार से अधिक सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करने वाले लोगों में : 1.28 प्रतिशत

भारत में कोरोना की स्थिति

भारत में अगर कोरोना की स्थिति की बात करें तो यह काफी तेजी से बढ़ रहा है. पिछले 24 घंटे में देश में करीब 1.80 लाख मामले सामने आए हैं, जिससे एक्टिव केसों की संख्या 7 लाख के ऊपर पहुंच गई है. ओमिक्रॉन की बात की जाए तो पिछले 24 घंटे में देश में 410 ओमिक्रॉन के नए मामले सामने आए हैं. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें