scorecardresearch
 

खाना खाते समय निगलने में होती है दिक्कत? इस बीमारी का है शुरुआती संकेत

कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियां आजकल के समय में काफी आम हो चुकी हैं. कैंसर शरीर के किसी भी अंग में हो सकता है . ऐसे में आज हम आपको एसोफेगस कैंसर के बारे में बताने जा रहे हैं. एसोफेगस को ग्रसिका/ ग्रासनाल और फूड पाइप भी कहा जाता है. एसोफेगस हमारे मुंह को पेट से जोड़ने वाली पाइप होती है. इस कैंसर से बचने के लिए जरूरी है कि समय पर इसका पता चले ताकि इस खतरनाक बीमारी से निपटा जा सके.

X
Oesophageal Cancer (Photo Credit: Getty Images) Oesophageal Cancer (Photo Credit: Getty Images)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • एसोफेगस एक फूड पाइप है जो हमारे मुंह और पेट को कनेक्ट करती है
  • इन लक्षणों का समय रहते पता लगाना काफी जरूरी

कैंसर की बीमारी काफी आम हो चुकी है. यह एक ऐसी जानलेवा बीमारी है जिसके शुरुआत में कोई भी लक्षण नजर नहीं आते हैं.  कुछ ऐसे कैंसर हैं जो काफी आम है जिसमें शामिल है- ब्रेस्ट कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, स्किन कैंसर, और एसोफेगस कैंसर. एसोफेगस फूड पाइप होती है जो हमारे मुंह और पेट को कनेक्ट करती है. इसे ग्रासनली के नाम से भी जाना जाता है. 

एसोफेगल कैंसर से जुड़े कई लक्षण ऐसे हैं जो इतने कॉमन होते हैं कि उन्हें कैंसर के लक्षणों के रूप में पहचानना काफी मुश्किल हो सकता है.  हालांकि इन लक्षणों का समय रहते पता लगाना काफी जरूरी होता है ताकि इसका समय पर इलाज शुरू हो सके. एसोफेगल कैंसर का सबसे पहला लक्षण खाना निगलने में दिक्कत का सामना करना है. 

खाना निगलने में दिक्कत- 

अगर आपको कुछ भी खाते या पीते समय घुटन, खांसी या निगलने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है तो यह  यह डिस्पैगिया का संकेत हो सकता है जो कि ऐसोफेगल कैंसर का सबसे आम लक्षण है.

कभी-कभी निगलने की कोशिश करने पर भोजन नाक या मुंह के जरिए वापस आ जाता है. जब आप लेटते हैं तो भोजन के लिए वापस एसोफेगस में आना आसान हो जाता है, जिससे लक्षण और भी खराब हो सकते हैं.

इसके चलते खाने को सही तरह से चबाने में भी दिक्कत का सामना करना पड़ता है. इस दिक्कत के चलते कई बार व्यक्ति भोजन को बिना चबाए ही निगलने की कोशिश करता है जिससे और भी ज्यादा दर्द महसूस होता है. कई बार व्यक्ति को लगता है कि उसके गले में कुछ फंस गया है. 

जैसे -जैसे यह कैंसर बढ़ता है यह और भी बदतर और दर्दनाक हो सकता है. साथ ही धीरे-धीरे ग्रासनली भी छोटी होने लगती है. 


एसोफेगस कैंसर के लक्षण

खाने को निगलने में दिक्कत के अलावा  एसोफेगस कैंसर के और कई लक्षण हैं. जैसे- थकान, उल्टी, एसिड रिफ्लक्स, हार्टबर्न, कफ, भूख ना लगना, छाती में दर्द और आवाज का बदलना शामिल है. 

 एसोफेगस कैंसर के खतरे को कैसे करें कम- 

खराब लाइफस्टाइल में बदलाव करके आप एसोफेगस कैंसर के खतरे को कम कर सकते हैं. ऐसे में जरूरी है कि आप स्मोकिंग, तंबाकू और शराब का सेवन बिल्कुल भी ना करें.  

इसके अलावा, जरूरी है कि आप हेल्दी चीजों जैसे फलों और सब्जियों को अपनी डाइट में शामिल करें. अपनी डाइट में अलग-अलग तरह के कलरफुल फलों और सब्जियों को शामिल करने से आपको कई फायदे मिल सकते हैं. साथ ही इस बात का ख्याल रखें कि आपका वजन ज्यादा ना हो. 
 
और पढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें