scorecardresearch
 

Lung health: फेफड़ों की घातक बीमारी का संकेत हैं ये 5 लक्षण, इग्नोर करने की ना करें भूल

फेफड़ों की दिक्कत से जुड़े वॉर्निंग साइन अगर समय रहते पहचान लिए जाएं तो बड़ी आफत को टाला जा सकता है. जानी मानी न्यूट्रिशनिस्ट लवलीन बत्रा ने फेफड़ों के कुछ लक्षणों को बारीकी से देखने की सलाह दी है.

Photo Credit: Getty Images Photo Credit: Getty Images
स्टोरी हाइलाइट्स
  • समय रहते पहचान लें फेफड़ों की दिक्कत से जुड़े वॉर्निंग
  • न्यूट्रिशनिस्ट ने फेफड़ों के ये 5 लक्षण इग्नोर ना करने की सलाह दी है

इंसान की बीमारी जब तक नासूर ना बन जाए तब तक उसे उसकी गंभीरता नहीं समझ आती है. हमारे फेफड़ों की हेल्थ पर भी यह वाकया एकदम सटीक बैठता है. फेफड़ों की दिक्कत से जुड़े वॉर्निंग साइन अगर समय रहते पहचान लिए जाएं तो बड़ी आफत को टाला जा सकता है. जानी मानी न्यूट्रिशनिस्ट लवलीन बत्रा ने अपने एक इंस्टाग्राम पोस्ट में फेफड़ों के कुछ लक्षणों को बारीकी से देखने की सलाह दी है.

छाती में दर्द- एक महीना या उससे ज्यादा छाती में दर्द किसी बड़ी समस्या का संकेत हो सकता है. खासतौर से खांसी या सांस में तकलीफ के वक्त छाती में दर्द को बिल्कुल नंजरअंदाज ना करें.

बलगम- क्या आप जानते हैं छाती में बलगम इंफेक्शन और जलन से बचाव के रूप में एयरवेज़ द्वारा प्रोड्यूस होता है. अगर किसी इंसान की छाती में एक महीना या उससे ज्यादा दिन तक बलगम की समस्या रहती है तो यह किसी बीमारी की ओर इशारा हो सकता है.

अचानक वजन घटना- बगैर किसी खास डाइट या वर्कआउट के अचानक से इंसान का वजन घटना सामान्य बात नहीं है. दरअसल यह शरीर के अंदर पनप रहे ट्यूमर के खतरे का एक सिग्नल हो सकता है.

सांस में बदलाव- अगर आपको सांस लेने में तकलीफ का सामना करना पड़ रहा है तो यह भी लंग्स डिसीज का साइन हो सकता है. दरअसल फेफड़े में ट्यूमर या कार्सिनोमा के कारण फेफड़ों में बना फ्लूड एयर पैसेज को ब्लॉक कर देता है. इस वजह से इंसान को सांस लेने में दिक्कत हो सकती है.

लगातार खांसी या खांसी में खून- लगातार 8 आठ हफ्तों तक खांसी या खांसी में खून भी इंसान के खराब रेस्पिरेटरी सिस्टम को उजागर करता है. ऐसा होने पर आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए और वक्त रहते इसका इलाज कराना चाहिए.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें