scorecardresearch
 
लाइफस्टाइल न्यूज़

Coronavirus Vaccine: इजरायल को देख समझ जाएंगे कोविड की वैक्सीन लगाने का असर

लोगों को वैक्सीन देने में सबसे आगे इजराइल
  • 1/9

पूरी दुनिया अब कोरोना वायरस को पूरी तरह खत्म करने के लिए तैयार है. भारत में आज से व्यापक स्तर पर वैक्सीनेशन (Covid 19 vaccination in India) का काम शुरू हो चुका है लेकिन कई देशों में पहले से ही लोगों को वैक्सीन देने का काम जारी है. इन देशों में सबसे आगे इजराइल है. इजरायल के अनुभव से पता चल सकता है कि वैक्सीनेशन के बाद वहां कोरोना संक्रमण पर कितना असर पड़ा है और आगे क्या हो सकता है?
 

इजराइल का वैक्सीनेशन अभियान
  • 2/9

इजराइल का वैक्सीनेशन अभियान पूरी दुनिया के लिए एक उदाहरण है. इजराइल में वैक्सीनेशन का काम बहुत तेजी से किया जा रहा है. यहां वैक्सीनेशन की रफ्तार देख कर कुछ देशों ने इसकी आलोचना भी की थी लेकिन इसका शुरूआती डेटा काफी सकारात्मक है.
 

इजराइल का वैक्सीनेशन अभियान2
  • 3/9

टाइम्स ऑफ इजरायल की रिपोर्ट के मुताबिक, यहां के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, वैक्सीन की पहली डोज के 14 दिनों बाद ही संक्रमण का खतरा 50 फीसदी तक कम पाया गया है. हालांकि, कई हेल्थकेयर एजेंसीज ने इसके अलग-अलग आंकड़े दिए हैं.
 

इजराइल का वैक्सीनेशन अभियान3
  • 4/9

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों से अलग हेल्थ केयर प्रोवाइडर मैक्काबी ने वैक्सीन से 60 फीसदी तो क्लैट ने 14 दिनों के अंदर इंफेक्शन दर में 33 फीसदी की कमी बताई है. 
 

इजराइल का वैक्सीनेशन अभियान4
  • 5/9

क्लैट की तुलना में मैक्काबी के डेटा को ज्यादा भरोसेमंद माना जा रहा है क्योंकि मैक्काबी की स्टडी में वैक्सीन लेने वाले सभी उम्र के लोगों को शामिल किया गया था जबकि क्लैट की स्टडी सिर्फ बुजुर्गों पर की गई थी.
 

इजराइल का वैक्सीनेशन अभियान5
  • 6/9

आपको बता दें इजराइल में लोगों को फाइजर वैक्सीन (Pfizer Vaccine) दी जा रही है. इन आंकड़ों से पता चलता है कि फाइजर-बायोएनटेक की वैक्सीन की पहली डोज लेने के कितने दिनों के बाद इम्यूनिटी बनती है.
 

इजराइल का वैक्सीनेशन अभियान6
  • 7/9

प्रसिद्ध वायरोलॉजिस्ट रिव्का अबुलाफिया ने 'द टाइम्स ऑफ इजराइल' को बताया कि वैक्सीन लेने वालों का आंकड़ा आखिर इतनी जल्दी कैसे प्राप्त कर लिया. उन्होंने इसका पूरा श्रेय वहां के हेल्थ केयर सिस्टम को दिया है.
 

इजराइल का वैक्सीनेशन अभियान7
  • 8/9

अबुलाफिया ने कहा, 'इजरायल में हर किसी का हेल्थ मेंटिनेन्स ऑर्गनाइजेशन (HMO) में रजिस्ट्रेशन है. इसमें उनके बैकग्राउंड का पूरा रिकॉर्ड रहता है. वैक्सीन लगाने के बाद उनके उम्र, लिंग और मेडिकल कंडीशन समेत हर चीज की सही जानकारी यहां से मिल जाती है.'
 

इजराइल का वैक्सीनेशन अभियान8
  • 9/9

इजराइल का लक्ष्य फरवरी तक देश के सभी बुजुर्गों को वैक्सीन लगा लेने का है. निश्चित तौर पर इजराइल के डेटा से पूरी दुनिया को जानकारी मिल सकेगी कि ये वैक्सीन बुजुर्गों पर कैसा असर करती है.