scorecardresearch
 

जानें, स्किन टाइप के अनुसार साबुन चुनना क्यों है जरूरी...

स्किन को स्वस्थ और चमकदार बनाए रखने के लिए हम कितने जतन करते हैं और अपनी त्वचा के अनुसार ही इसका ख्याल भी रखते हैं. क्या आप जानते हैं कि साबुन का चुनाव करते समय भी स्किन टाइप का ख्याल रखना जरूरी होता हैं?

X

अक्सर देखा जाता है कि लोग कोई भी सोप इस्तेमाल कर लेते हैं क्योंकि अधिकतर लोगों को लगता है कि इससे त्वचा की सफाई ही तो होनी है. लेकिन ऐसा नहीं होता है त्वचा की सफाई के साथ ही यह भी जरूरी है कि स्किन टाइप के अनुसार सोप का चुनाव किया जाए. ऐसा करने से त्वचा को नुकसान नहीं पहुंचता और वह चमकदार भी बनी रहती है...

1. तैलीय त्वचा के‍ लिए
एंटीबैक्टीरियल साबुन बाजार में उपलब्ध एंटीबैक्टीरियल साबुन में ट्राइक्लोसन और ट्राइक्लोकार्बन जैसे एंटीबैक्टीरियल एजेंट होते हैं जो तैलीय त्वचा वालों के लिए अच्छी तरह काम करते हैं. इसके ज्यादा इस्तेमाल से बचें क्योंकि यह त्वचा को रूखा बना सकता है.

2. ऑल स्किन टाइप के लिए ग्लिसरीनयुक्त सोप
ग्लिसरीन युक्त साबुन मेडिकेटेड सोप होते हैं और यह मिली-जुली यानि कॉम्बिनेशन स्किन टाइप वालों के लिए फायदेमंद होता है. इसके अलावा जिनकी त्वचा रूखी और संवेदनशील होती है उन्हें भी इस सोप का इस्तेमाल करना चाहिए.

3. कॉम्बिनेशन स्किन के अरोमाथैरेपी सोप
अगर आपकी सिक्न कॉम्बिनेशन स्किन है मतलब ऑयल और ड्राईनेस की मिलीजुली त्वचा है तो इस तरह के साबुन आपकी स्किन के लिए अच्छे हैं. इनमें एसेंशि‍अल ऑइल और सुगंधित फूलों का अर्क होता है जो शरीर को आराम और प्रसन्न बनाकर तनावमुक्त रखने में मदद करते हैं.

4. मुहांसों वाली त्वचा के लिए
चेहरे पर एक मुहांसा आ जाए तो हर कोई परेशान हो जाता है और इसे ठीक करने के लिए न जाने कितने ही उपाय कर लेते हैं. मुहांसों से बचने के लिए बनाए गए साबुन का ज्यादा इस्तेमाल करने से बचना ही बेहतर होता है. कई बार यह त्वचा पर लाल निशान छोड़ जात हैं इसलिए इन्हें इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

5. हर्बल सोप
जड़ी-बूटियों के तेल से बने ये सोप त्वचा को केमिकल के प्रभाव से बचाते हैं. इनका इस्तेमाल कोई भी कर सकता है क्योंकि इनके साइड इफेक्ट कम होते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें