scorecardresearch
 

भारतीय महिलाओं को सेहतमंद रहने के लिए क्या सलाह दे रही हैं प्रियंका, जानें यहां

भारत में एनीमिया से लड़ने के लिए यूनीसेफ के सहयोग से एक कैंपेन शुरू की गई है. इस मौके पर बॉलीवुड स्टार प्रियंका चोपड़ा ने भी अपने अनुभव बताए और यह राज भी बांटा कि‍ खुद को फिट रखने के लिए वह कौन-सी गोली ले रही हैं.

X

जहां एक ओर हमें यह अक्सर सुनने में आता है कि फिल्म स्टार्स शेप में रहने के लिए खास तरीके की डाइट का सहारा लेते हैं वहीं इनमें एक हस्ती ऐसी भी है जो खुलकर यह बोलती है कि इतनी भागदौड़ के बीच उसके पास एक्सरसाइज का टाइम नहीं होता, वह जो मिले वही खाती है और जल्दी-जल्दी बीमार भी होती है. इस फिल्म स्टार ने यह भी बताया कि इन दिनों वह इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए एक न्यूट्रिशनल पिल ले रही हैं.

बात हो रही है प्रियंका चोपड़ा की, जिन्होंने हाल ही में दिल्ली में एक कैंपेन का आगाज किया है. स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय व यूनीसेफ की ओर से संयुक्त रूप से शुरू की गई इस कैंपेन का नाम है वीकली आयरन फोलिक एसिड सप्लीमेंटेशन प्रोग्राम (WIFS). इसका मकसद भारतीय महिलाओं के बीच एनीमिया की दर को कम करना है.

इस आयोजन के दौरान IFA टैबलेट भी लॉन्च की गई जिसमें 100 मिग्रा एलिमेंटल आयरन और 500 माइक्रोग्राम फोलिक एसिड मौजूद है. एनीमिया से लड़ने के लिए इस गोली को 52 हफ्तों तक लेना होगा. यह गोली स्वच्छ पानी व खान-पान न मिलने की वजह से होने वाले पेट के कीड़ों को भी कम करेगी.

इस गोली के बारे में बॉलीवुड की इस टॉप अदाकारा ने बताया कि इसे लेकर वह खुद को एक्टिव महसूस करती हैं और उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी सुधार आया है. प्रियंका ने कहा, 'पहले मैं बहुत बीमार होती थी लेकिन इस आयरन टैबलेट को लेने के बाद मैं बेहतर महसूस करती हूं.'

प्रियंका ने यह भी बताया कि उनके माता-पिता दोनों ही डॉक्टर रहे हैं. ऐसे में उनके परिवार में स्वास्थ्य को हमेशा गंभीरता से लिया जाता रहा है. उनकी मां अक्सर उनकी आंखें देखा करती थीं और ये समझने की कोशिश करती थीं कि सबकुछ ठीक है या नहीं. हर दस दिन पर उनका चेक-अप कराया जाता था. ताकि वह स्वस्थ रहें और उसी समय से स्वास्थ्य उनके लिए महत्वपूर्ण रहा है.


एक सवाल के जवाब में कि आखिर वह अपने खान-पान में आयरन को कैसे शामिल करती हैं, प्रियंका ने बताया कि वह हमेशा पौष्टि‍क खाना नहीं खा पाती हैं. काम की वजह से ऐसा संभव नहीं हो पाता. पर वह हमेशा खाने को संतुलित रखने की कोशिश करती हैं. उन्होंने बताया कि इस सप्लीमेंट की मदद से उन्होंने अपनी सेहत में वाकई फर्क महसूस किया है. उनका मानना है कि इस देश में जबकि बहुत से लोग एनीमिया से पीडि़त हैं तो यह सप्लीमेंट काफी फायदेमंद और कारगर साबित हो सकता है.

हालांकि फ्री पिल्स प्रयास के तहत इसे देशभर की लड़कियों के बीच बांटने की योजना है. इस प्रयास को और गति देने के लिए प्रियंका चोपड़ा पर आधारित एक वीडियो भी शूट किया गया है.

केंद्रीय मंत्री जे पी नड्डा भी इस मौके पर मौजूद रहे और उन्होंने कहा कि लोग दूसरे देशों से हमारे देश की तुलना करने लगे हैं और कहने लगे हैं कि भारत अब भी उस मुकाम तक नहीं पहुंच पाया है जहां दुनिया के कई दूसरे देश पहुंच गए हैं. लेकिन वे गलत हैं. हमारा देश किसी भी देश की तुलना में कहीं से भी कमतर नहीं है. भारत एक ऐसा देश है जिसकी किसी दूसरे देश से तुलना की ही नहीं जा सकती है. इसकी अपनी खासियत और अपनी कमजोरी है. हम डिजि‍टल इंडिया से भी पूरा सहयोग ले रहे हैं और बहुत ही जल्दी पोषण से जुड़ा संदेश प्रांतीय भाषाओं में भी उपलब्ध होगा. यह बहुत ही जल्दी मोबाइल पर भी उपलब्ध होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें