scorecardresearch
 

चिकन में है एंटीबायोटिक, खाएंगे तो शरीर पर दवाएं हो जाएंगी बेअसर

आपको जानकर हैरानी होगी कि जब भी आप चिकन खाते हैं तो ऐंटीबायोटिक दवाओं का एक पूरी डोज आपके अंदर चली जाती है. सेंटर फॉर साइंस ऐंड इनवायरमेंट (सीएसई) ने एक लैब स्टडी से यह परिणाम निकाला है.

चिकन चिकन

आपको जानकर हैरानी होगी कि जब भी आप चिकन खाते हैं तो ऐंटीबायोटिक दवाओं का एक पूरी डोज आपके अंदर चली जाती है. सेंटर फॉर साइंस ऐंड इनवायरमेंट (सीएसई) ने एक लैब स्टडी से यह परिणाम निकाला है. उसके मुताबिक दिल्ली तथा एनसीआर में बिकने वाले चिकन के सैंपलों में से 40 फीसदी में ऐंटीबायोटिक दवाओं के अवशेष रहते हैं. इसका परिणाम यह होता है कि शरीर इन दवाओं के असर से इम्यून हो जाता है. यानी इन दवाओं को खाने से मनुष्य के इलाज में वह सफलता नहीं मिल पाती है जो अमूमन मिलनी चाहिए.

सीएसई के मुताबिक मुर्गा पालन उद्योग में इन दवाइयों का धड़ल्ले से उपयोग हो रहा है क्योंकि मुर्गा पालने वाले उन्हें ऐंटीबायटिक देकर इन्हें तेजी से बड़ा करते हैं और वज़न बढ़ाते हैं तथा बीमारियों से बचाते हैं. इनके इस्तेमाल से मुर्गे बड़े दिखने लगते हैं.

लेकिन मानव शरीर पर इसका बड़ा बुरा असर पड़ता है. शरीर में इनके जाने से लोगों की इम्युनिटी घटती जाती है. ये दवाइयां हैं ऑक्सीटेट्रासाइक्लिन, क्लोरोटेट्रासाइक्लिन, डॉक्सीसाइक्लिन, एनरोफ्लोक्सेसिन, सिप्रोफ्लोक्सासिन और नियोमाइसिन. इनके ही अवशेष चिकन सैंपलों में पाए गए.

सीएसई ने दिल्ली तथा एनसीआर में 70 सैंपल लिए गए और ऐंटीबायोटिक्स की उपस्थिति का पता लगाने के लिए उनका परीक्षण किया गया. इनमें से 40 फीसदी से ज्यादा में ऐंटीबायोटिक दवाओं के अवशेष पाए गए. 22.9 फीसदी में एक दवा का अवशेष और 17.9 फीसदी में एक से ज्यादा ऐंटीबायोटिक दवाओं के अवेशष थे.

जब हम चिकन खाते हैं तो इन दवाओं के अवशेष हमारे शरीर में चले जाते हैं और वे उन दवाओं की ताकत घटा देते हैं. जब हम बीमार पड़ते हैं तो इन दवाओं का असर कम हो जाता है यानी इन्हें जितनी जल्दी हमें ठीक करना चाहिए था वे उतनी जल्दी नहीं कर पाते हैं. कुछ बीमारियों खासकर सेपसिस, निमोनिया और टीबी का इलाज अब आसानी से नहीं हो रहा है क्योंकि इनके कीटाणु इन दवाओं से इम्युन हो गए हैं. स्टडी में तो यहां तक पाया गया है कि ज्यादातर चिकन सैंपल में एनरोफ्लोक्सेसिन और सिप्रोफ्लोक्सासिन के अवशेष थे.

दिल के नामी-गिरामी डॉक्टर देवी शेट्टी ने पहले यह मुद्दा उठाया था. उनके मरीजों में से कई ऐसे थे जिनके इलाज में इन दवाओं से फायदा नहीं हो रहा था. उनमें से बहुत ग्रामीण थे जिन्होंने पहले ये दवाएं नहीं ली थीं. उन्होंने बताया कि हमने उनके खाने की जांच की तो हमें पता चला कि यह उस खाने से हो रहा है जो वे खा रहे हैं. इसके बाद डॉक्टर शेट्टी ने सीएसई से बात की और उनसे स्टडी करने को कहा.

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने कहा कि इस समस्या के बारे में हमें एक समग्र नीति बनानी होगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×